दुनिया का सबसे बड़ा और प्राकृतिक शिवलिंग जो हर साल बढ़ता है देखिये

आपने ऐसा कभी सुना होगा पर देखा नहीं होगा! हम बात कर रहे है छत्तीसगढ़ के गरियाबंद जिले के मरौदा गांव के एक घने जंगलों बीच एक प्राकर्तिक शिवलिंग है जोकी भूतेश्वर नाथ के नाम से प्रसिद्ध है। यह दुनिया का सबसे बड़ा और प्राकृतिक शिवलिंग है। यहां की सबसे बड़ी आश्चर्य की बात यह है की शिवलिंग अपने आप खुद बड़ा और मोटा होता जा रहा है। आपको बता दे यह जमीन से करीब 18 फीट उंचा एवं 20 फीट गोलाकार है। राजस्व विभाग व्दारा हरसाल इसकी उचांई नापी जाती है जो लगातार 6 से 8 इंच बढ रही है।

इस शिवलिंग के बारे में पता किया तो आज से सैकडो साल पूर्व जमीदारी प्रथा के समय पारागांव निवासी शोभासिंह जमींदार यहां पर खेती बाडी करते थे। शोभा सिंह शाम को जब अपने खेत मे घुमने जाता था तो उसे खेत के पास एक विशेष आकृतिनुमा टीले से सांड के हुंकारने (चिल्लानें) एवं शेर के दहाडनें की आवाजे आती थी। ऐसा कई बार इस आवाज को सुनने के बाद शोभासिंह ने उक्त बात ग्रामवासियों को बताई।

तब ग्राम वासियो ने भी शाम को उक्त आवाजे अनेक बार सुनी। तथा आवाज करने वाले सांड एवं शेर की आसपास में पता किया। लेकिन दूर दूर तक किसी जानवर के नहीं मिलने पर इस टीले के प्रति लोगो की श्रद्धा बढने लगी। और लोग इस टीले को शिवलिंग के रूप में मानने लगे। पारा गावं के लोग बताते है कि पहले यह टीला छोटे रूप में था। पर धीरे धीरे इसकी उचाई एवं गोलाई बढती गई। जो आज भी जारी है। इस शिवलिंग में प्रकृति प्रदत जल लहरी भी दिखाई देती है। जो की धीरे धीरे जमीन के उपर आती ही जा रही है।

READ  तो इस वजह से कुंती पुत्र कर्ण ने अपने सगे भाइयों का साथ नही दिया |

आपको बता दे यह जगह भुतेश्वरनाथ, भकुरा महादेव के नाम से जानी जाती है। इस शिवलिंग का पौराणिक महत्व सन 1959 में गोरखपुर से प्रकाषित धार्मिक पत्रिका कल्याण के वार्षिक अंक के पृष्ट क्रमांक 408 में उल्लेखित है जिसमें इसे विश्व का एक अनोखा महान एवं विशाल शिवलिंग भी बताया गया है।

यहां पर एक कथा और है कि इनकी पूजा बिंदनवागढ़ के छुरा नरेश के पूर्वजों द्वारा की जाती थी। एवं दंत कथा है कि भगवान शंकर-पार्वती ऋषि मुनियों के आश्रमों में भ्रमण करने आए थे, तभी यहां पर वे शिवलिंग के रूप में स्थापित हो गए।

यहां घने जंगलों के बीच स्थित होने के बावजूद यहाँ पर सावन में कावड़ियों का हुजूम उमड़ता है। और इसके अलावा शिवरात्री पर भी यहाँ पर विशाल मेला भरता है।

One thought on “दुनिया का सबसे बड़ा और प्राकृतिक शिवलिंग जो हर साल बढ़ता है देखिये

  • June 13, 2017 at 7:34 pm
    Permalink

    is se bhi bada shivlink (uk) me mandakini nadi pr h jo 2013 me baad aane ke baad bhi apni jagh se khisak nahi paya

Leave a Reply

Your email address will not be published.