Jammu & Kashmir : एनएन वोहरा के कार्यकाल में चौथी बार लगा राज्यपाल शासन, बन गया रिकॉर्ड

श्रीनगर : Jammu & Kashmir में बुधवार (20 जून) को राज्यपाल शासन लग गया है. मंगलवार को बीजेपी के समर्थन वापस लेने के बाद देर शाम सीएम महबूबा मुफ्ती ने इस्तीफा दे दिया. यह आठवीं बार है जब जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल शासन लगाया गया है. घाटी में यह पहला ऐसा मौका है जब एनएन वोहरा के कार्यकाल में चौथी बार राज्यपाल शासन लगाया जाएगा. यह अपने आप में एक रिकॉर्ड होगा.

एनएन वोहरा के कार्यकाल में कब-कब लगा राज्यपाल शासन-Jammu & Kashmir

-25 जून 2008 को एनएन वोहरा पहली बार जम्मू कश्मीर के राज्यपाल बनें थे. वोहरा के कार्यकाल में पहली बार और जम्मू कश्मीर में पांचवीं बार राज्यपाल शासन इसी साल लगा था. 2008 में जम्मू कश्मीर में कांग्रेस और पीडीपी की सरकार थी, लेकिन अमरनाथ मुद्दे पर बात ना बनने के कारण कांग्रेस ने समर्थन वापस ले लिया और गुलाम नबी आजाद की सत्ता अल्पमत में आ गई. 7 जुलाई 2008 को विधानसभा में विश्वासमत की वोटिंग से पहले ही गुलाम ने अपने पद के इस्तीफा दे दिया. जुलाई में सरकार गिरने के बाद जनवरी 2009 तक घाटी में राज्यपाल शासन लगा रहा. विधानसभा चुनावों के बाद उमर अब्दुल्ला की सरकार सत्ता में आई.

Jammu-Kashmir : ईद की नमाज से पहले सुरक्षाबलों पर भीड़ का हमला, पाकिस्‍तान के झंडे लहराए

-23 दिसंबर 2014 को Jammu & Kashmir में हुए विधानसभा चुनावों के परिणाम घोषित किए गए. चुनावों के परिणाम आने के बाद एक बार फिर से कोई भी पार्टी विधानसभा में पूर्ण बहुमत साबित करने में विफल रही. हालांकि उमर अब्दुल्ला प्रदेश के कार्यवाहक मुख्यमंत्री बनें रहे. 7 जनवरी तक उमर के कार्यवाहक मुख्यमंत्री बनने के बाद राज्य में दोबारा राज्यपाल शासन लगाने की मांग की गई. उस समय वोहरा के कार्यकाल में दूसरी बार राज्यपाल शासन लगा.

READ  रयान मर्डर केस: CBI का दावा- परीक्षा टालने के लिए 11वीं के छात्र ने की थी प्रद्युम्‍न की हत्‍या

-करीब 3 महीने तक राज्यपाल शासन लगने के बाद घाटी में एक मार्च 2015 में मुफ्ती मुहम्मद सईद के नेतृत्व में बीजेपी और पीडीपी ने गठबंधन की सरकार बनाई. अब इसे जम्मू-कश्मीर की किस्मत कहें या कुछ और बीजेपी और पीडीपी का यह गठबंधन एक साल भी नहीं चल पाया और सात जनवरी, 2016 को सईद के निधन के कारण सरकार गिर गई. 9 जनवरी, 2016 को राज्यपाल एनएन वोहरा के समय में तीसरी बार और Jammu & Kashmir में सातवीं बार राज्यपाल शासन लागा दिया गया.

-3 महीन के बाद एक बार फिर राज्य में 2016 में 4 अप्रैल को पीडीपी और बीजेपी ने गठबंधन की सरकार बनाई और महबूबा मुफ्ती ने सीएम पद की शपथ ली. कहा जाता है कि घाटी में महबूबा मुफ्ती की सरकार बनने के बाद हालात और भी ज्यादा तनावपूर्ण हो गए. मंगलवार को बीजेपी महासचिव राम माधव ने स्पष्ट शब्दों में कहा कि लद्दाख और Jammu & Kashmir में विकास समेत कई मुद्दों पर बात ना बनने के कारण वह समर्थन वापस ले रहे हैं. बीजेपी के समर्थन वापस लेते ही घाटी में एक बार फिर से सरकार गिर गई और राज्यपाल शासन लागू कर दिया गया. यह चौथा मौका है जब वोहरा के कार्यकाल के दौरान घाटी में राज्यपाल शासन लागू किया गया हो. अब तक किसी भी राज्य में ऐसा नहीं हुआ है.

courtesy zeenews.com

Related Post