Santram Mahendargarh Haryana- भीषण गर्मी में पहनता है स्वेटर-कंबल, और सर्दी में लगती है गर्मी

Santram Mahendargarh Haryana :- इन दिनों भीषण गर्मी है और हर तरफ लोग त्राहि-त्राहि कर रहे हैं. गर्मी से बचने के लिए लोग हल्के कपड़े पहन रहे हैं, ठंडी चीज़ें खा-पी रहे हैं और एसी, कूलर या पंखे के बिना तो रहना भी नहीं सोच सकते. ऐसे में ज़रा इस शख्स को देखिए. सिर ढके, स्वेटर पहने और शॉल ओढ़े ये शख्स आखिर इस भीषण गर्मी में खुद को ठंड से क्यों बचाने की कोशिश कर रहा है? सवाल उठना लाज़मी है कि क्या ये शख्स बीमार हैं? तो चलिए हम आपको ये अजीब-ओ-गरीब कहानी बताते हैं. # Santram Mahendargarh Haryana

मिलिए हरियाणा के महेंद्रगढ़ में रहने वाले संतराम से और जानिए कैसे वो हम और आप से बिल्कुल जुदा हैं. # Santram Mahendargarh Haryana

सबसे पहले हम आपको इनका परिचय दे देते हैं. संतराम नाम के ये शख्स हरियाणा के महेंद्रगढ़ में रहते हैं. ये दूसरे लोगों से बिल्कुल जुदा हैं. इन्हें गर्मी के मौसम में सर्दी और सर्दी के मौसम में गर्मी का अहसास होता है. इन्हें इतनी ठंड लगती है कि ये आग के सामने हाथ तापने को भी मजबूर हैं.

अब ज़रा इस तस्वीर को देखिए. भरी दोपहर में संतराम स्वेटर पहन और शॉल ओढ़कर बाहर निकले हैं. बताया जाता है कि जैसे ही गर्मी बढ़ती जाती है वैसे ही संतराम रजाइयां लेकर सोने लगते हैं. # Santram Mahendargarh Haryana

सर्दियों में जहां लोग रजाई से बाहर निकलना भी पसंद नहीं करते, वहीं संतराम हल्के कपड़े पहनकर बाहर घूमते हैं. इतना ही नहीं वो सर्दियों में बर्फ भी खाते हैं.

READ  जानिये पद्म श्री "मिताली राज" से जुडी कुछ दिलचस्प बातें |

संतराम का कहना है कि उन्हें कोई बीमारी नहीं हैं. उनका शरीर बचपन से ही ऐसा है. संतराम अपने गांव में मौसम विभाग के नाम से मशहूर हैं. संतराम का कहना है कि उन्होंने बर्फ पर सबसे ज्यादा समय तक लेटने का रिकॉर्ड भी तोड़ा है. (All images credit: ANI)

ये भी पढ़ें

नर्मदा नदी पर बना है देश का सबसे लंबा और अनोखा ब्रिज, देखिए तस्वीरें..

बीते साल दो दिन के गुजरात दौरे के दौरान पीएम मोदी ने भरूच जिले में नर्मदा नदी पर चार लेन के एक पुल का उद्घाटन किया था. इस पुल की तस्वीरें मीडिया में सामने आईं थीं. इस पुल का निर्माण अहमदाबाद-मुबंई राष्ट्रीय राजमार्ग पर यातायात को बेहतर बनाने के लिए किया गया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यह देश का सबसे लंबा एक्स्ट्रा डाज्ड केबल ब्रिज है. तस्वीरों में जानें इस पुल की खासियतें.

इस पुल की लंबाई 1344 मीटर और चौड़ाई 20.8 मीटर है. यह पुल दो साल में बनकर तैयार हुआ और इस पर 379 करोड़ रुपये की लागत आई है.

इस प्रोजेक्ट की शुरुआत साल 2014 को की गई थी. हिंदुस्तान कंस्ट्रक्शन कॉर्पोरेशन प्राइवेट लिमिटेड कंपनी (Hindustan Construction Co. Ltd.) के असफल होने के बाद पुल बनाने का पूरा प्रोजेक्ट लरसेन एंड टर्बो कंपनी को दे दिया गया था.

इस पुल में करीब 216 केबल लगे हुए हैं.हर केबल की लंबाई की करीब 25 से 40 मीटर की है. पुल की खासियत की बात करें तो इस पर 17.4 मीटर चौड़ी फोर-लेन सड़क है. इस पर पैदल चलने वालों के लिए 3 मीटर फुटपाथ बनाई गई है.

READ  राजधानी एक्सप्रेस से कम नहीं मुंबई की ये खास पहली लोकल AC ट्रेन

पुल पर अंतर्राष्ट्रीय मानकों के मुताबिक लाइटिंग की व्यवस्था की गई है. इसमें करीब 400 से ज्यादा LED लाइट्स का इस्तेमाल किया गया है. रात में यह बहुत सुुंदर दिखाई देता है. खास तकनीक और खास डिजाइन की मदद से बना गए इस पुल का निर्माण करने में ढाई साल का समय लगा.

देश की सबसे बड़ी नदियों में से एक नर्मदा पर बनें पुल का विहंगम दृश्य.