मुश्किल वक्त में अंबानी को मिला इस बेटे का साथ, पिता के लिए ऐसे जुटाए 17000 करोड़ रुपए

अनिल अंबानी को बीते कुछ समय से लगातार मुश्किलों का समाना करना पड़ रहा है। उनकी कंपनी रिलायंस कम्यूनिकेशंस (RCom.) दिवालिया हाेने के कगार पर है। लेकिन उनके इस मुश्किल वक्त में बेटे अनमोल अंबानी ने उनकों बड़ी राहत दी है। अनमोल अंबानी ने पिता अनिल अंबानी के लिए एक एेसे वक्त में पैसों का इंतजाम किया है जब उन्हें इसकी सख्त जरूरत थी। अनमोल रिलायंस कैपिटल के डायरेक्टर हैं आैर उन्होंने अपनी पहली डील फाइनल की है। अनमोल ने कोडमास्टर्स नाम की एक कंपनी में रिलायंस ग्रुप की 60 फीसदी हिस्सेदारी बेची है जिसकी कुल कीमत 1,700 करोड़ रुपए है। इस डील की सबसे खास बात ये है कि ये हिस्सेदारी 25 गुना अधिक रिटर्न पर बेची गर्इ है।

कोडमास्टर्स में रिलायंस की हिस्सेदारी अब केवल 30 फीसदी रही

इसके पहले साल 2009 में अनिल अंबानी ग्रुप ने महज 100 करोड़ रुपए में कोडमास्टर्स की 90 फीसदी हिस्सदेारी को खरीदा था। हालांकि रिलायंस ग्रुप ने इस खबर की पुष्टि तो कर दी है लेकिन कंपनी के वित्तीय लेनदेन से जुड़ी जानकारी अभी साझा नहीं किया गया है। कोडमास्टर्स के अलावा रिलायंस ग्रुप ने हाॅलीवुड मूवी स्टूडियो ‘ड्रीमवर्क्स’ में भी निवेश किया हुआ है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कोडमास्टर्स में रिलायंस की हिस्सेदारी अब केवल 30 फीसदी ही रह गर्इ है। वहीं इस कंपनी में 10 फीसदी की हिस्सेदारी कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीर्इआे) की है। रिलायंस की ये हिस्सेदारी पब्लिक आॅफरिंग के तहत बेची गर्इ है।

क्या है कोडमास्टर्स

कोडमास्टर्स एक गेम डेवलपर कंपनी है। ये कंपनी लंदन स्टाॅक एक्सचेंज में लिस्टेड है। कोडमास्टर्स को साल 1986 में डेविड डार्लिंग अौर आैर उनके भार्इ रिचर्ड ने स्थापित किया है। साल 2005 में इसे एक मैगजीन ने टाॅप डेवलपर गेम बनाने वाली कंपनी का दर्जा भी दिया था। फिलहाल इस कंपनी की चार शाखाएं है जिसमें से तीन इंग्लैंड में हैं जबकि एक मलेशिया में है।

READ  2.5 लाख से ज्यादा कमाई पर लगेगा 'नया टैक्स', सिर्फ इन लोगों पर होगा असर

अनिल अंबानी के बड़े बेटे हैं अनमोल अंबानी

अनमोल अंबानी रिलायंस ग्रुप के मालिक अनिल अंबानी आैर टीना अंबानी के सबसे बड़े बेटे हैं। अनमोल की उम्र 26 साल है। फिलहाल ये रिलायंस कैपिटल के निदेशक हैं। इसके पहले वो साल 2014 में अनमाेल ने कंपनी की वित्तीय सेवाआें से जुड़े कार्यों को देखा है। इसके बाद उन्हें साल 2016 में रिलायंस कैपिटल के बोर्ड में शामिल है ।