सिर्फ़ 15 दिनों में एक बार करना है ये उपाय, जिससे पेट खुल कर साफ़ होगा, लिवर की समस्या दूर होगी, मोटापा घटेगा और त्वचा संबंधी रोग नही होगे

हमारे शरीर का सबसे मुख्य भाग होता है शरीर की आंते। क्योंकि हमारा सारा शरीर आंतो पर ही निर्भर होता है। शरीर को अच्छे से काम करने के लिए स्वस्थ आंतों की जरूरत होती है। इसीलिए आंते स्वस्थ रखने के लिए समय समय पर इन की सफाई करना भी बहुत जरूरी होता है।
जिनको लिवर की समस्या व पाचन की समस्या होती है। उनको अपनी आंते जरूर साफ़ करनी चाहिए। मोटे व्यक्ति को भी समय समय पर इनको साफ़ करना चाहिए। ताकि शरीर की आंतो की सफाई हो सके और आप शरीर से सारी गंदगी बाहर निकाल सके।

अगर इनमे गंदगी होती है तो शरीर में सबसे ज्यादा नुकसान हमारे लिवर को पहुँचता है। इसीलिए डॉक्टर भी लिवर के रोगी को वही दवाई देते है। जिनके सेवन से उनके शरीर की आंते साफ़ हो सके। अगर आपको भी लिवर की समस्या है तो इसकी सफाई करना आपके लिए बहुत अधिक जरूरी होता है। ताकि आप एक स्वस्थ जीवन व्यतीत कर सकें।
लेकिन पहले जानते है की अगर आपकी आंते स्वस्थ व साफ़ नहीं है। तो इससे आपको क्या क्या रोग उत्पन्न हो सकते है।

  • मोटापा
  • पेट खुल कर साफ़ न होना
  • पाचन शक्ति का कमजोर होना
  • त्वचा संबंधी रोग
  • लिवर की समस्या

अगर आप भी अपनी आंतो की सफाई करना चाहते है तो एक घरेलु उपाय से आप ऐसे साफ़ कर सकते है। इसे बनाने के लिए जो आवश्यक सामग्री चाहिए। वह कुछ इस प्रकार है।

  • एक चम्मच शहद
  • दो चम्मच सेब का रस
  • एक गिलास गर्म पानी

इसे बनाने के लिए गर्म पानी में शहद और सेब का रस अच्छे से मिला लेना चाहिए। और गर्म गर्म इसका सुबह खाली पेट सेवन करना चाहिए। अगर आप ऐसा करते है तो आपकी आंते साफ़ हो जाती है। एक स्वस्थ जीवन व्यतीत करने के लिए महीने में दो बार ये करना बहुत जरूरी होता है।

READ  कोलेस्ट्रॉल , इन्फेक्शन , ब्लडप्रेशर जैसी कई बीमारियों का समाधान देसी नुस्खा , कुछ इस तरेह है

Diabetes Cure Permanently – मधुमेह का स्थायी इलाज – नित्यानंदम श्री

कभी-कभी आपका शरीर पर्याप्त-या कोई इंसुलिन नहीं बनाता है या इंसुलिन का अच्छी तरह से उपयोग नहीं करता है तब ग्लूकोज आपके खून में बढ़ता है और इन्सुलिन उसे नियंत्रित नहीं कर पाता है।

टाइप 1 डायबिटीज वाले अधिकांश लोगों में, शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली, जो आम तौर पर संक्रमण से लड़ती है, अग्न्याशय में कोशिकाओं को नष्ट कर देती है जो इंसुलिन बनाती हैं। नतीजतन, आपका अग्न्याशय इंसुलिन बनाना बंद कर देता है। इंसुलिन के बिना, ग्लूकोज आपके कोशिकाओं को उर्जा के रूप में नहीं मिलता है और आपके रक्त ग्लूकोज सामान्य से ऊपर बढ़ जाता है टाइप 1 डायबिटीज वाले लोगों को जीवित रहने के लिए हर रोज इंसुलिन लेने की जरूरत होती हैं।

 

किसे होती है ये बीमारी?

टाइप 1 डायबिटीज आमतौर पर बच्चों और युवा वयस्कों में होता है, हालांकि यह किसी भी उम्र में हो सकता है। अगर डायबिटीज माता-पिता या भाई को है तो टाइप 1 मधुमेह के विकास की संभावना बढ़ सकती है। मधुमेह वाले लगभग 5 प्रतिशत लोगों में टाइप 1 हैं ।

टाइप 1 डायबिटीज के लक्षण

1: बढ़ती प्यास और लगातार पेशाब

मधुमेह में यूरिन की समस्या बढ़ जाती है और उसमें भी यह रात के समय ज्यादा होती है। क्योंकि शरीर में इकट्ठी होने वाली शुगर को किडनियां बाहर निकालने लगती हैं। जिसके कारण शरीर से पानी भी बाहर निकल जाता है। प्‍यास भी बार-बार लगती है, ऐसा इसलिए होता है क्योंकि शरीर से यूरिन के माध्यम से पानी ज्यादा निकल जाता है। पानी निकलने से शरीर में इसकी कमी हो जाती है।

2: अत्‍यधिक भूख

आपको इसलिए भूख महसूस होती है क्योंकि आपका शरीर उस ऊर्जा का प्रयोग नहीं कर पाता जितनी वह कर सकता है। इसके बजाय ज्यादातर कैलोरी यूरिन के द्वारा निकाल दी जाती है।

READ  सुबह-सुबह रोजाना खाली पेट लहसुन खाने के है 8 बड़े फायदे, जरूर अपनाएँ और शेयर करे

3: वजन घटना

ऐसा शरीर में पानी की कमी की वजह से होता है। इसी वजह से शरीर का पानी भी कम हो जाता है। शरीर से पानी और अन्य तत्व यूरिन के माध्यम से बाहर निकल जाते हैं।

4: थकान

आपको थकावट और भूख दोनों महसूस होंगी। आपका शरीर उस कैलोरी को नहीं पचा पाता जिसे शरीर ग्रहण करता है। वहीं आपके शरीर को पर्याप्त ऊर्जा भी नहीं मिल पाती।

5: चिड़चिड़ापन या व्यवहार परिवर्तन

टाइप 1 डायबिटीज होने का यह भी एक संकेत है, जब व्‍यवहार परिवर्तन होने लगे और चिड़चिड़ापन होने लगे तो यह ठीक नहीं है।

6: सांसों से फलों की गंध का आना

टाइप 1 डायबिटीज के लक्षणों में एक यह भी है कि, इस अवस्‍था में सांसों से फलों की गंध आती है यानी आपकी सांसों से एक तरह का स्‍मेल आता है।

7: धुंधली दृष्टि

जब शुगर आँखों के लेंस में भी बननी शुरू हो जाती है तो, यह आँखों से अतिरिक्त नमी को सोख लेती है। इस से आँखों के लेंस के आकार में बदलाव आ जाता है और आँखें भी धुंधली होने लगती हैं।

अगर मधुमेह का सही इलाज ढूंढ रहे हो तो एक बार जरुर पढ़ें

किसी की किडनी  खराब (Kidney Damage) हो रही है ,किसी का लीवर खराब (Liver Damage) हो रहा है , किसी को Paralysis हो रहा है किसी को Brain Stroke हो रहा है ,किसी को Heart Attack आ रहा है ! कुल मिलकर complicationsबहुत है diabetes के !!भारत में 5 करोड़ 70 लाख से ज्यादा लोगों को डाइबटीज है और 3 करोड़ से ज्यादा को हो जाएगी अगले कुछ सालों में (सरकार ऐसा कह रही है ) , हर 2 मिनट में एक आदमी डाइबटीज से मर जाता हैं ! तो इस बिमारी को हल्के में बिलकुल ना लें |

READ  कढ़ाई पर जमी जिद्दी चिकनाई की तरह आपका पेट भी साफ़ नही होता, तो अपनाएँ ये रामबाण उपाय जो पेट के कोने-कोने को चकाचक कर देगा

हमारे आस पास के खराब वातावरण और खान पान की खराब आदतों के कारण Diabetes के मरीजो की गिनती दिन ब दिन बढती जा रही है | Diabetes के मरीजों में सिर दर्द , थकान जैसी समस्यायें बनी रहती है |एलोपैथिक में इस बिमारी का कोई स्थायी इलाज़ मौजूद नहीं है | लेकिन आयुर्वेद के पास है !!तो आये जानते है इसके बारे में :-

आज हम आपको एक ऐसे उपाए  के बारे में बताने जा रहे है जो आपकी मधुमेह को जड से खत्म कर देगा | यह उपाए तयार करना बेहद आसान है | आगे चल कर हम आपको इस नुस्खे को तयार करने की विधि के बारे में बताएगे |

 

HOME REMEDY FOR DIABETES .. IN HINDI

समग्री :-

  • 6 निम्बू का ताजा रस
  • 300 ग्राम अजमोद

विधि :-

  • अजमोद को धो कर साफ़ कर लीजिये और निम्बू के रस के साथ मिला कर पॉट(Pot) में रखें और पॉट को अच्छी तहरे बंद कर दें (ढक दें) |
  • दूसरी तरफ एक और पॉट में पानी डाल लीजिये और इस में वो पहले वाला पॉट रख दीजिये और इसे उबालने के लिए आग पर रखें |
  • उबलने के बाद इसे 2 घंटे तक धीमी आग पर रखे रहने दें |
  • अब इसे नार्मल तापमान तक ठंडा होने दें लेकिन ध्यान रखें के मिश्रण वाले पॉट का ढकन हटाना नहीं है तथा उसे खोलना नहीं है |
  • जब यह मिश्रण ठंडा हो जाए तो इसे जार में डाल कर फ्रिज में स्टोर करें |

रोजाना 1 चमच खाली पेट  (खाने से आधा घंटा पहले ) इस मिश्रण का सेवन करें | आप कुछ महीनों के बाद आपना ब्लड शुगर टेस्ट करवा कर देख सकते है आपको अच्छे नतीजे प्रापत होंगे |

Related Post