आंवले का उपयोग इस तरह से करने पर सफ़ेद बाल जल्द ही काले हो जाते है, ये घने व लम्बे बालों के लिए भी कारगर है

बढ़ते जनसंख्या, बढ़ती टेंशन, और भोजन में ज़रूरी खनिज़ो की कमी के कारण आज कल असमय ही बाल सफ़ेद हो रहे हैं। असमय हुए सफ़ेद बालो को काला करने के लिए ये नुस्खे रामबाण सिद्ध हो सकते हैं।

सफ़ेद बाल काले करने के लिए आंवले के 6 रामबाण उपाय

  1. आंवले के छोटे छोटे टुकड़े कर इन्हे छाया में सुखाइये। अब इन्हे नारियल के तेल में तब तक उबालिये, जब तक के आंवले काले और कठोर ना हो जाए। यह तेल बालो की सफेदी को रोकने के लिए बहुत उपयोगी हैं।
  2. एक बड़ा चम्मच आंवले का रस, एक चम्मच बादाम का तेल या कुछ बूंदे निम्बू का रस मिलाकर हर रात बालो में अच्छी तरह मालिश करे। यह बालो की सफेदी रोकने का अच्छा उपचार हैं।
  3. 100 ग्राम सूखे आंवले को लोहे के बर्तन में चार दिन तक भिगोये। फिर इसे पीस कर गाढ़ा पेस्ट बनाये। ब्रश से भली भाँती बालो में लगाए। दो घंटे बाद सिर को धो लीजिये। कुछ दिनों में बाल काले होने शुरू हो जायेंगे।
  4. असमय हुए सफ़ेद बालो के उपचार के लिए लोहे के बर्तन में रात भर आंवला चूर्ण भिगोये रखे। सुबह उसमे बकरी का दूध और निम्बू का रस मिलकर नियमित बालो पर लगाये।
  5. आंवले को चुकंदर के रस में पीस कर सिर में लगाने से बाल झड़ने बंद होकर गहरे व् काले होने लगते हैं। दो माह तक ये प्रयोग करे।
    एक किलो आंवले का रस, एक किलो देशी घी, 250 ग्राम मुलहठी – इन तीनो को हलकी आंच पर पकाये। जब पानी सूख जाए और तेल बच जाए तो उसे छानकर
  6. बोतल में भर ले। अब इसे खिजाब की तरह लगाये, कुछ ही दिनों में सारे बाल काले हो जायेंगे।
READ  पुनर्नवा जो कैन्सर के मरीज़ों के लिए आयुर्वेद जगत की अद्भुत औषधि है !!

इन प्रयोगो में कोई भी प्रयोग करे। इसके साथ में आप खाने के लिए ये दवा बनाये।

  • 100 ग्राम त्रिफला चूर्ण कपड़छान कर लीजिये, अब इस त्रिफला में इतना गुड मिला लीजिये के इसकी गोलियां बन जाए। इसकी बड़ी बड़ी गोलिया बना लीजिये। रोज़ सुबह बासी मुंह एक गोली चबाकर खा ले। कुछ ही दिनों में सफ़ेद की जगह काले बाल आने शुरू हो जायेंगे।

अगर आंगन में उग आए ये पौधा, तो कभी ना करना उखाड़ने की गलती क्यूँकि ये सेहत का ख़ज़ाना है


दुनिया में वैसे तो हर तरह की चीजें होती है। कुछ चीजें लोगों की जरुरत की होती है. कुछ चीजें किसी भी काम की नही होती। बिल्कुल वैसे ही पेड़ पौधे होते है। जो कि कुछ पेड़-पौधे लोगों के काम में आते है तो कुछ बेकार में उग आते है। जो कोई ना फल देते है और ना ही लकड़ी। इस तरह के पौधों को ज्यादातर अपने घर या घर के आसपास से उखाड़कर हम फेंक देते है। न्यूट्रिएंट्स का भंडार है ये पौधा।
वही इनमें से एक ऐसा पौधा भी है जो कि हमारे घर के आसपास उगा होता है और हम उसे बेकार समझ कर उखाड़ कर फेंक देते है। इस पौधें का नाम पर्स्लेन या कुलफा है। कई लोग इसे जंगली पौधा समझ नोच कर फेंक देते हैं. आपको जानकर हैरानी होगी कि इसमें विटामिन डी की भरपूर मात्रा होती है। साथ ही इस पौधें की खासियत है कि इसमें न्यूट्रिएंट्स पाया जाता है। आप इस पौधें की खामिया जानकर फेंकने की जगह खाना पंसद करेंगे।

READ  ज्‍वाइंट्स के कालेपन को मिनटों में दूर करना है तो अपनाएं 5 आसान उपाए

पर्स्लेन या कुलफा के फ़ायदे :

1. हार्ट की बीमारी : आपको बता दें कि इसमें ओमेगा भी मौजूद होता है, जो कि अभी तक आपको यही जानकारी होगी कि ओमेगा 3 फैटी एसिड मछली, अंडा और फिश ऑयल सप्लीमेंट से मिलता है. यह हार्ट जैसे बीमारी से बचाता है. साथ ही, इससे आपकी बॉडी में बीमारियों से लड़ने की क्षमता भी बढ़ जाती है।
2. ब्लड प्रेशर : इस पौधे की पत्तियों में काफी मात्रा में पोटेशियम होता है. इस कारण इन पत्तियों को खाने से आपका ब्लड प्रेशर नॉर्मल रहता है। यदि आप इसको रोजाना अपनी डाइट में शामिल करेंगें तो कभी बॉडी में कैल्शियम और मैग्नीशियम की कमी नहीं होगी। इसका मतलब है कि आपकी हड्डियां और दांत मजबूत रहेंगे।3. आयरन की भरपूर मात्रा : इसकी पत्तियां खाने से आपकी बॉडी हाइड्रेट रहेगी। मतलब आप रहेंगे हेल्दी और एनर्जेटिक। पर्स्लेन में 93 प्रतिशत पानी मौजूद होता है। पर्स्लेन को अपनी डाइट में शामिल करने से आपको काफी अच्छी नींद आएगी। इसका कारण है इसमें मौजूद मेलाटोनिन. ये आपकी बॉडी में नींद के लिए जिम्मेदार फंक्शन्स को रेग्युलेट करता है। वेजिटेरियन लोगों को मीट की जगह इससे ही आयरन मिल जाता है।

Related Post