Jio ने ग्राहकों को दिया एक और तोहफा, साढ़े छह करोड़ लोगों को होगा फायदा !!

 रिलायंस जियो (Reliance Jio) ने अपने ग्राहकों को एक और तोहफा दिया है. जियो (Jio) ने गुरुवार को इंडियन मार्केट के लिए स्क्रीनज के करार करने का ऐलान किया है. स्क्रीनज एक ‘एंटरटेनमेंट बेस्ड इंटरेक्टिविटी’ प्लेटफार्म है, इसे दुनियाभर के प्रमुख ब्राडकॉस्टर्स प्रयोग करते हैं. जियो के इस करार के बाद मौजूदा गेमिंग प्लेटफॉर्म की दुनिया पूरी तरह बदल जाएगी. जियो की तरफ से दी गई जानकारी के अनुसार फिलहाल ‘जियो क्रिकेट प्ले अलॉन्ग’ को 6 करोड़ 50 लाख से ज्यादा लोग खेल रहे हैं.

इससे पहले ‘कौन बनेगा करोड़पति प्ले अलॉन्ग’ के माध्यम से केबीसी को घर बैठे यूजर भी खेल सकते थे. स्क्रीनज के साथ करार होने के बाद जियो स्क्रीनज (Jio Screenz) देश का सबसे बड़ा प्लेटफॉर्म होगा. इसकी मदद से जियो अपने यूजर्स को टीवी शो देखने के दौरान ब्रॉडकास्टर्स से जुड़ने की भी सुविधा देगा. इससे आने वाले समय में काफी बदलाव आने की उम्मीद है. कुछ दिन पहले जियो ने JioInteract दुनिया का पहला आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस आधारित एंगेजमेंट प्लेटफॉर्म को लॉन्च किया था.

ये सुविधाएं मिलेंगी
Jio Screenz प्लेटफॉर्म पर टीवी शो के दौरान ब्रॉडकास्टर व दर्शकों के बीच दो तरफा बातचीत की सुविधा देता है. रियल टाइम में सवाल जबाव और वोटिंग की जा सकती है. इसके अलावा यह कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम के उपयोग को भी आसान बनाता है. जो ब्रॉडकास्टर्स को इंटरेक्टिव कंटेंट बनाने में मदद करता है. यह एंड्रायड, आईओएस और जियो काई-ओएस पर रन करता है. Jio Screenz विभिन्न सोशल नेटवर्क जैसे Google, फेसबुक, ट्विटर जैसे प्लेटफॉर्म को सपोर्ट करता है.

जियो की तरफ से दिए गए बयान के अनुसार इस साझेदारी से जबरदस्त मानकों की विषय-वस्तु बनाने में प्रसारक व प्रकाशक समर्थ हो पाएंगे. इस मंच पर उपलब्ध फीचर विविध विषय-वस्तुओं के लिए काफी ग्रहणीय है. साथ ही, प्रसारकों और दर्शकों के बीच सही समय पर संवाद के साथ तारतम्यता बनान व दर्शकों को बांधे रखने में समर्थ है.

READ  Samsung Galaxy S9's camera just added a whole new dimension to the smartphone race

IRCTC स्पेशल ऑफर : SBI कार्ड वालों को ‘मुफ्त’ में मिलेगा Railway टिकट!

अगर आप अक्सर ट्रेन से सफर करते हैं तो यह खबर आपके काम की है. इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कार्पोरेशन (IRCTC) एसबीआई कार्ड के जरिए फ्री ट्रेन टिकट का ऑफर दे रहा है. फ्री ट्रेन टिकट का ऑफर केवल आईआरसीटीसी एसबीआई प्लेटिनम कार्ड (IRCTC SBI Platinum Card) इस्तेमाल करने वाले ग्राहकों को दिया जा रहा है. यह जानकारी आईआरसीटीसी की तरफ से अपने ट्विटर हैंडल पर दी गई. आपको बता दें कि आईआरसीटीसी एसबीआई प्लेटिनम कार्ड में 350 रिवार्ड प्वाइंट, 1.8 प्रतिशत ट्रांजेक्शन चार्ज वेवर, 2.5 प्रतिशत फ्यूल सरचार्ज वेवर और रेलवे टिकट पर 10 फीसदी वैल्यू बैक का ऑफर दिया जा रहा है.

फ्री में रेलवे टिकट लेने के लिए सबसे पहले आपके पास आईआरसीटीसी एसबीआई प्लेटिनम क्रेडिट कार्ड होना जरूरी है. इसके साथ ही एसबीआई के इस कार्ड पर और भी कई फायदे मिल रहे हैं. आगे पढ़िए किस तरह आपको भी इस कार्ड के जरिए फ्री में रेलवे टिकट मिल सकता है.

1.8 प्रतिशत ट्रांजेक्शन चार्ज की छूट
अगर आप आईआरसीटीसी एसबीआई प्लेटिनम कार्ड के जरिये www.irctc.co.in से टिकट कराते हैं तो आपको 1.8 प्रतिशत ट्रांजेक्शन चार्ज से छूट मिलती है. इसके लिए टिकट बुकिंग के समय आपको ट्रांजेक्शन चार्ज देना होगा, लेकिन बाद में यह वेव ऑफ होकर आपके क्रेडिट कार्ड के खाते में आ जाता है.
ऐसे मिलेगा फ्री ट्रेन टिकट
IRCTC SBI Platinum Card से शॉपिंग, रेस्टोरेंट में खर्च करने और अन्य खर्चा करने पर आपको रिवार्ड प्वाइंट मिलते हैं. कार्ड से 125 रुपये खर्च करने पर ग्राहक को एक रिवार्ड प्वाइंट मिलता है. इस तरह प्राप्त किए गए रिवॉर्ड प्वाइंट के एकत्रित होने पर आप irctc.co.in से टिकट बुक कराते समय इन्हें रिडीम करा सकते हैं. जब आपके टिकट की वैल्यू और रिवॉर्ड प्वाइंट की वैल्यू बराबर हो जाए तो आप इन्हें रिडीम कर सकते हैं.

READ  ऑनलाइन खरीदा हुआ प्रोडक्ट असली है या नकली, इन तरीकों से करें पता !!

2.5 प्रतिशत ट्रांजेक्शन फी से छूट
IRCTC SBI Platinum Card से पेट्रोल या डीजल खरीद पर 2.5 प्रतिशत ट्रांजेक्शन चार्ज से भी राहत मिलेगी. यह सुविधा सभी पेट्रोल पंप से 500 से लेकर 3000 रुपये तक का ऑयल खरीदने पर मिलेगी. उदाहरण के लिए आप अगर कार्ड से 500 रुपये का पेट्रोल लेते हैं तो आपको इस पर 2.5 प्रतिशत यानी 12.5 रुपये ट्रांजेक्शन चार्ज देना होता है. लेकिन इस कार्ड से ट्रांजेक्शन करने पर आपको ये चार्ज वेव ऑफ हो जाते हैं.

बिना सिम कार्ड के काम करेगा स्मार्टफोन, दूरसंचार विभाग ने दी ई-सिम को मंजूरी

मोबाइल यूजर्स को अब नया कनेक्शन लेने के लिए सिम खरीदने की जरूरत नहीं पड़ेगी। दूरसंचार विभाग (डॉट) ने इंबेडेड सिम (ई-सिम) के प्रयोग को मंजूरी देने वाले नए दिशानिर्देश जारी कर यह व्यवस्था दी है। नए दिशानिर्देशों के मुताबिक जब भी कोई उपयोगकर्ता अपनी सेवा प्रदाता कंपनी बदलना या नया कनेक्शन लेना चाहेगा, तो उसके स्मार्टफोन या डिवाइस में इंबेडेड सब्सक्राइबर आइडेंटिटी मॉड्यूल यानी ई-सिम डाल दी जाएगी। उस ई-सिम में उस उपयोगकर्ता द्वारा प्रयोग की जा रही सभी सेवा प्रदाताओं की सूचनाएं अपडेट कर दी जाएंगी। फिलहाल ई-सिम तकनीक का इस्तेमाल रिलांयस जियो और एयरटेल एपल वॉच के जरिए किया जा रहा है।

अधिकतम 18 सिम कार्ड हो सकेंगे इश्यू

इसके साथ ही विभाग ने प्रत्येक मोबाइल उपयोगकर्ता को अधिकतम 18 तक सिम का प्रयोग करने की भी इजाजत दे दी है। डॉट ने सिर्फ मोबाइल फोन के लिए नौ सिम के साथ मशीन-टू-मशीन मिलाकर कुल 18 सिम के प्रयोग की इजाजत दी है। यानी की एक यूजर को केवल अधिकतम 18 सिम कार्ड ही इश्यू की जा सकेंगी।

READ  फेसबुक-वॉट्सऐप जैसे सोशल मीडिया पर लगा टैक्स, रोजाना देने होंगे इतने रूपए !

क्या है ई-सिम?

ई-सिम को इंबेडेड सब्सक्राइबर आइडेंटिटी मॉड्यूल कहा जाता है। यह तकनीक सॉफ्टवेयर के जरिए काम करती है। फिलहाल इस तकनीक का इस्तेमाल स्मार्टवॉच में किया जा रहा है। लेकिन इस तकनीक को अब समार्टफोन पर रोल-ऑउट कर दिया जाएगा, जिससे यूजर्स केवल सॉफ्टवेयर के जरिए टेलीकॉम सेवाएं ले सकेंगे। इसके अलावा एक ऑपरेटर से दूसरे ऑपरेटर में स्विच करने में भी आसानी होगी।

बढ़ जाएगी बैटरी लाइफ

ई-सिम तकनीक के जरिए स्मार्टफोन की बैटरी लाइफ बढ़ जाएगी। सॉफ्टवेयर के जरिए काम करने वाले ई-सिम में फिजिकल सिम की अपेक्षा में स्मार्टफोन के बैटरी की खपत कम हो जाएगी। इसके अलावा यूजर्स का सिम पोर्ट करने के लिए 7 दिन का इंतजार नहीं करना पड़ेगा। इस तकनीक से यूजर्स तुरंत अपने ऑपरेटर बदल सकते हैं। इसके अलावा स्मार्टफोन में सिम कार्ड स्लॉट की भी जरूरत नहीं होगी जिससे आपके स्मार्टफोन में अतिरिक्त जगह भी बन जाएगी।

2016 में हुई थी शुरुआत

इस तकनीक की शुरुआत 2016 में हो चुकी है। स्मार्टफोन निर्माता कंपनी सैमसंग ने इस तकनीक का इस्तेमाल अपने स्मार्टवॉच सैमसंग गियर 2 में किया था। बाद में इस तकनीक का इस्तेमाल एपल वॉच 3 में किया गया। भारत में रिलायंस जियो और एयरटेल इस तकनीक का इस्तेमाल करने वाली टेलीकॉम आपरेटर है जो एपल वॉच के जरिए ई-सिम की सुविधा दे रही है।