हर मोबाइल यूजर को मिलेगा ‘क्रेडिट कार्ड’, इस बैंक ने शुरू की सर्विस !

 आपकी तमाम कोशिश के बाद भी अगर किसी बैंक ने आपको क्रेडिट कार्ड इश्यू नहीं किया तो यह खबर आपको खुश कर देगी. जी हां, मुंबई स्थित इंस्टेंट क्रेडिट फेसिलेटिंग स्टार्टअप ईपेलेटर (ePayLater) ने निजी क्षेत्र के आईडीएफसी बैंक के साथ करार कर किया है. इसके तहत भीम यूपीआई का इस्तेमाल करने वाले ग्राहकों को क्रेडिट लिमिट उपलब्ध कराई जाएगी. ईपेलेटर की तरफ से ग्राहकों को ऐसे आउटलेट पर क्रेडिट पेमेंट करने की सुविधा दी जाएगी जहां यूपीआई पेमेंट या भारत क्यूआर पेमेंट से भुगतान करने की सुविधा है.

देश में 3.5 करोड़ क्रेडिट कार्ड धारक
ईपेलेटर के को-फाउंडर आरको भट्टाचार्य ने बताया कि देश में 3.5 करोड़ क्रेडिट कार्ड धारक हैं. ऐसे में वे ग्राहक जो छोटी क्रेडिट लिमिट का इस्तेमाल कुछ ट्रांजेक्शन के लिए करना चाहते हैं वे ईपेलेटर का इस्तेमाल कर सकते हैं. भट्टाचार्य ने बताया कि ईपेलेटर के माध्यम से किए गए भुगतान का री-पेमेंट 14 दिन के अंदर करना होगा. इसके लिए ईपेलेटर ने आईडीएफसी बैंक से करार किया है.

20 हजार रुपये की क्रेडिट सुविधा
इसके तहत भीम यूपीआई का इस्तेमाल करने वाले ग्राहकों को खरीदारी के लिए क्रेडिट उपलब्ध कराई जा सकेगी. एक हिंदी दैनिक में प्रकाशित खबर के अनुसार एक बार में 20 हजार रुपये तक की क्रेडिट पर खरीदारी की सुविधा मिलेगी.
इस बारे में आईडीएफसी बैंक के सीओओ अवतार मोंगा का कहना है कि नोटबंदी के बाद पेमेंट करने के लिए ग्राहकों के पास क्रेडिट कार्ड के अलावा कई ऑप्शन मौजूद हैं. डिजीटल पेमेंट ज्यादा सुरक्षित है और तेजी से हो जाता है. ऐसे में जिन ग्राहकों को बैंक क्रेडिट कार्ड जारी नहीं करते. ऐसे लोगों के लिए आईडीएफसी बैंक ने ईपेलेटर के साथ मिलकर यह सुविधा शुरू की है. इसमें भीम यूपीआई को कस्टमाइज किया गया है, ताकि भीम एप के उपयोगकर्ताओं को डिजिटल क्रेडिट उपलब्ध कराया जा सके.

READ  नए बजट में मिडिल क्लास को ये गिफ्ट दे सकती है सरकार - बजट 2018 !!

ऐसे यूज करें क्रेडिट लिमिट
इसके लिए ग्राहकों को सबसे पहले ईपेलेटर एप डाउनलोड करना होगा. यूजर के क्रेडेंशियल के आधार पर एक निश्चित लोन अमाउंट निर्धारित किया जाएगा. इसे यूजर अपनी जरूरत के हिसाब से इस्तेमाल कर सकेगा. लेकिन इसका भुगतान उसे 14 दिन के अंदर करना होगा. 14 दिन इस्तेमाल की गई राशि पर किसी तरह का ब्याज नहीं देना होगा. 14 दिन के बाद 3 प्रतिशत प्रतिमाह के हिसाब से ब्याज लिया जाएगा.

 

लैपटॉप खरीदते समय इन बातों का रखें ध्यान, बाद में नहीं पड़ेगा पछताना

जब हम नया लैपटॉप खरीदने जाते हैं तो अक्सर कुछ जरूरी बातों पर ध्यान नहीं देते हैं, जिसके बाद हमारे पास पछताने के अलावा और कोई चारा नहीं रह जाता। आज हम आपको वो सभी जरूरी बात बताने जा रहे हैं जिसका ध्यान रखने के बाद आपको अपने पसंदीदा लैपटॉप को खरीदने में परेशानी नहीं होगी। आइए जानते हैं वो कौन सी जरूरी बातें हैं जिसका ध्यान हमें लैपटॉप खरीदने से पहले रखना चाहिए।

सही ऑपरेटिंग सिस्टम का चुनाव करना : कभी-कभी हम नए लैपटॉप को खरीदते समय सही ऑपरेटिंग सिस्टम का चुनाव नहीं कर पाते हैं। आजकल बाजार में प्री-इन्स्टॉल्ड ऑपरेटिंग सिस्टम वाले कई ब्रांड्स के लैपटाप मौजूद हैं। ऐसे में अगर हम सही ऑपरेटिंग सिस्टम वाले लैपटॉप नहीं खरीदते हैं तो हमें उसमें फिर से नया ऑपरेटिंग सिस्टम डलवाना पड़ता है। ऐसे में लैपटॉप खरीदने से पहले हम सही ऑपरेटिंग सिस्टम का चुनाव जरूर कर लें। सबसे ज्यादा लोकप्रिय ऑपरेटिंग सिस्टम में माइक्रोसॉफ्ट के विंडोज 7, विंडोज 8, विंडोज 10 के अलावा, एप्पल के आइओएस 10 एवं 11, गूगल क्रोम ओएस, उबन्तु हैं। आप जिस ऑपरेटिंग सिस्टम पर आसानी से काम कर सकते हैं उस लैपटॉप को चुनना आपके लिए बेहतर होगा।

READ  आईए आपको मिलाते हैं अनोखे रोबोट से

सही की-बोर्ड का चुनाव : अगर आप लैपटॉप पर ज्यादा काम करते हैं तो आप हमेशा सॉलिड की-बोर्ड वाले लैपटॉप लें, ऐसा इसलिए कि इससे आपके की-बोर्ड के की जल्दी खराब होने की संभावना रहती है। वहीं अगर आप बिजनेस लैपटॉप खरीदना चाहते हैं तो की-बोर्ड में जी और एच की के बीच में नब जरूर चेक कर लें। इस नब की मदद से आप अपनी उंगली आसानी से की-बोर्ड पर रख पाएंगे।

सही डिस्प्ले साइज का चुनाव करना : कई लोग छोटे स्क्रीन साइज वाले लैपटॉप खरीदना पसंद करते हैं, वहीं कुछ लोगों को बड़ी स्क्रीन वाले लैपटॉप पसंद होते हैं। ऐसे में आप अपने सुविधा के मुताबिक अपने लैपटॉप स्क्रीन का चुनाव कर सकते हैं। 15 इंच का स्क्रीन साइज लोगों के बीच में काफी प्रचलित है और काम करने में आसानी होती है।

सही प्रोसेसर और रैम का चुनाव : बाहरी स्पेसिफिकेशन के अलावा भी कई आंतरिक फीचर्स के बारे में भी लैपटॉप खरीदने से पहले सावधानी बरतनी चाहिए। अगर आप अपने इस्तेमाल के अनुरूप सही प्रोसेसर और रैम का चुनाव नहीं कर पाते हैं तो बाद में आपको परेशानी का सामना उठाना पड़ सकता है। इसलिए लैपटॉप खरीदने से पहले इसके प्रोसेसर और रैम के अलावा आंतरिक स्पेसिफिकेशन के बारे में जरूर जानकारी हासिल कर लें। इंटेल आई3, इटेल आई5 या इंटेल आई7 में से किसी एक प्रोसेसर का चुनाव कर सकते हैं। लेटेस्ट ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो 4जीबी रैम वाले लैपटॉप का चुनाव करना बेहतर विकल्प हो सकता है।

बैटरी की कर लें जांच: लैपटॉप को पावर देने के लिए बैटरी की जरुरत होती है, इसलिए हमेशा बैटरी बैकअप के बारे में पता कर लेना चाहिए। आमतौर पर लैपटॉप में लिथियम ऑयन बैटरी लगी होती है जो काफी लंबा बैटरी बैकअप देती है। लिथियम-ऑयन बैटरी द्वारा संचालित होने वाले लैपटॉप में इस्तेमाल होने वाले बैटरी की एमएएच जांच लें। जितनी ज्यादा एमएएच होगी उतना ही लंबा बैटरी बैकअप होगा।

READ  चार साल बाद बहन को खोजने में कामयाब हुआ भाई, लेकिन वह इस हालत में मिली

 

यह है स्मार्टफोन पर EPF अकाउंट बैलेंस जानने का स्टेप बाय स्टेप प्रोसेस

 

अगर आप अपने फोन पर EPF अकाउंट बैलेंस चेक करना चाहते हैं, तो आपको हमारी ये खबर पूरी पढ़नी चाहिए। हम आपको 7 आसान तरीकों की मदद से बताएंगे कि कैसे एक टैप में आप घर बैठे अपने फोन पर EPF अकाउंट बैलेंस को देख सकेंगे। जानते हैं इन 7 तरीकों के बारे में,

Step 1: गूगल प्ले स्टोर पर जाकर UMANG एप को डाउनलोड करें।

Step 2: एप को डाउनलोड करने पर आपके फोन में वन टाइम पासवर्ड(ओटीपी) आएगा। इस ओटीपी की मदद से आप एप पर साइन-एप कर सकेंगे।

Step 3: एप पर आपको अपना आधार नंबर डालना होगा। अगर आप एप के जरिए ऑनलाइन ट्रांसफर रिक्वेस्ट करना चाहते हैं तो आपको एप से आधार को लिंक करना होगा।

Step 4: एप में जाने पर आपको होम पेज पर ईपीएफ का विकल्प दिखेगा।

Step 5: एप में कर्मचारी केंद्रित सेवा पर जाएं। आपको यहां पासबुक देखने के साथ पेंशन निकालने का भी विकल्प दिखाई देगा।

Step 6: यहां आपको आपना यूनिवर्सल अकाउंट नंबर (यूएएन) दर्ज करना होगा, जिसके बाद आपको ईपीएफओ के साथ रजिस्टर फोन पर ओटीपी मिलेगा।

Step 7: इसके बाद अब आप अपने ईपीएफ पासबुक को एक्सेस कर सकेंगे। आप पासबुक का पीडीएफ फॉर्मेट भी डाउनलोड कर सकते हैं।

 

Related Post