2 दिल और 2 सिर के साथ जन्मा ये विचित्र बच्चा, लाखों में पैदा होता है एक

शहर में गुरुवार को दो सिर वाले बच्चे का जन्म हुआ। बच्चे का जन्म छत्रपति शिवाजी महाराज सर्वोपचार हॉस्पिटल में हुआ। उसको देखने के लिए काफी संख्या में लोगों की भीड़ लग गई थी। डॉक्टर्स के मुताबिक, उस बच्चे को अभी आईसीयू में रखा गया है जहां पर उस की हेल्थ पर नजर रखी जा रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कोई इसे भगवान का रूप मान रहा है तो कोई इसे चमत्कार बता रहा है। ये है पूरा मामला…

– मामला महाराष्ट्र के सोलापुर डिस्ट्रिक का है। यहां महिला को डिलीवरी के लिए हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया था।
– हॉस्पिटल के डॉक्टर्स ने डिलीवरी से पहले सोनाग्राफी कराई, जिसमें उन्होंने 2 सिर वाला बच्चा होने की संभावना जताई थी।
– जब गुरूवार (12 अप्रैल) को महिला ने ऑपरेशन से बच्चे को जन्म दिया तो डॉक्टर्स देखकर हैरान रह गए।
– बच्चे की दो गर्दन और एक धड़ था। डॉक्टर्स के मुताबिक, इस हॉस्पिटल में ऐसी डिलीवरी पहली बार हुई थी।

– डॉ. विद्या तिरणकर की गायनेकोलॉजी डिपार्टमेंट प्रमुख के अंडर में महिला का ऑपरेशन किया गया था।

दो दिल हैं बच्चे के

– बच्चे के दो दिल, दो सांस नली हैं। बाकी सभी अंग आम बच्चे की तरह ही हैं। इस बच्चे को हॉस्पिटल के केवी ब्लॉक के आईसीयू वार्ड में रखा गया है। बच्चे की हालत गंभीर है और उसे ऑब्जर्वेशन में रखा गया है।
– जानकारी के मुताबिक, लाखों बच्चों में ऐसा बच्चा पैदा होता है। हॉस्पिटल के डीन सुनील घाटे की डॉक्टर्स टीम के अंडर में उसे रखा गया है।

READ  गजब-दुनिया सबसे अजीब इन्सान जो खाता है ईट-पत्थर और पीता है पेट्रोल !

एक्टिंग छोड़ ये एक्टर कर रहा है गांव में खेती, निकालता है गाय-भैंस का दूध और काटता है घास

 

फेमस शो साराभाई वर्सेज़ साराभाई सीरियल के एक्टर राजेश शर्मा पटना से 125 किलोमीटर दूर बर्मा गांव में खेती कर रहे हैं। बता दें कि उन्होंने फिलहाल एक्टिंग फील्ड से दूरी बना ली है। गांव को स्मार्ट विलेज बनाने में लगे हैं इसलिए उन्होंने खेती के बारे में जानकारी देने के साथ साथ उन्होंने शून्य-बजट आध्यात्मिक खेती में हाथ बटाना शुरू कर दिया है।

इसलिए कर रहे हैं खेती

– पटना में जन्म राजेश के मुताबिक वे एक बार पेड़ के नीचे बैठे थे उस समय उन्हें एक आइडिया आया कि बर्मा गांव की हालत सुधारने में कुछ मदद की जाए।
– उसके बाद वे जब बर्मा गांव पहुंचे तो उन्होंने देखा कि उस गांव में कोई सुविधाएं भी नहीं हैं। पानी, बिजली की भी बिल्कुल व्यवस्था नहीं हैं।
– इस बात पर उन्होंने गांव को स्मार्ट बनाने के लिए प्रयास शुरू किया और बिजली पानी की व्यवस्था के लिए प्रयास शुरू किए।
– धीरे-धीरे वे इस गांव की हालत सुधार रहे हैं। जानवरों का दूध निकालना, घास काटना, खेती करने के साथ साथ वे पूरे काम करते हैं।

क्या है शून्य-बजट आध्यात्मिक खेती

– शून्य-बजट आध्यात्मिक खेती प्रकृति, विज्ञान, आध्यात्म एवं अहिंसा पर आधारित खेती की टेक्निक है ।
– इस टेक्निक में रासायनिक खाद, गोबर खाद, जैविक खाद, केंचुआ खाद एवं जहरीले रासायनिक-जैविक केमिकल नही खरीदने होते बल्कि केवल एक देसी गाय से 30 एकड़ खेती कर सकते हैं।
– इस टेक्निक में केवल 10% पानी एवं 10% बिजली की जरूरत होती है, मतलब 90% पानी एवं बिजली की बचत हो जाती है।

READ  देखिए एक महाराजा, जिनके 'खास' महल में केवल बिना कपड़ों के एंट्री थी

पहले शो में लिए थे 20 रीटेक

– राजेश 1998 में अपनी प्रेग्नेंट सिस्टर की देखरेख के लिए मुंबई आए थे।
– उन्होंने अपनी ग्रेजुएशन बिहार यूनिवर्सिटी से कम्पलीट की और वो मुंबई के एक्स जेवियर कॉलेज से मास कम्यूनिकेशन करना चाहते थे।
– इसी बीच उन्होंने एक फ्रेंड के शो में एक छोटा सा रोल प्ले किया था और ये शो बेस्ट सेलर रहा।
– राजेश ने एक इंटरव्यू में कहा था कि “मुझे उस में एक लाइन बोलनी थी, हैप्पी मैरिज एनिवर्सरी कांग्रेचुलेशन ये रही आपकी टिकट, इसे बोलने में मैंने 20 रीटेक लिए थे। इस रोल के लिए मुझे 1000रु. मिले थे। हालांकि उस शूट में मुझे मजा आया था। यही ये धीरे-धीरे मेरे एक्टर बनने की जर्नी शुरु हुई थी।”

रात को पेट पर प्लास्टिक बांध सोई थी महिला, अगली सुबह हुआ ऐसा ‘चमत्कार’

 सोशल साइट्स पर कॉलीन नाम की महिला द्वारा शेयर की गई फोटोज वायरल हो रही हैं। इस पोस्ट में कॉलीन ने बताया कि तीन बच्चों को जन्म देने के बाद उसका फिगर बिगड़ गया था। अपने फिगर को वापस पाने के लिए उसने चमत्कारिक तरीका अपनाया। इस तरीके को उसने कुछ रातों के लिए इस्तेमाल किया और रिजल्ट देखकर कॉलीन काफी खुश हैं। ​

मार्केट से सीवीड (समुद्री शैवाल) लोशन खरीदा

कॉलीन का दावा है कि इस तरीके से काफी आसानी से बढ़ा हुआ पेट कम किया जा सकता है। कॉलीन ने मार्केट से सीवीड (समुद्री शैवाल) लोशन खरीदा। इसके अलावा आपको पेट पर बांधने के लिए प्लास्टिक की जरुरत होगी।

– कॉलीन ने कुछ रातों के लिए अपने पेट पर सीवीड लोशन लगाने के बाद प्लास्टिक बांधा। प्लास्टिक को पेट पर टिकाने के लिए कॉलीन उसके ऊपर बैंडेज बांधती थी। इसके बाद वो सो जाती थीं। ऐसा उन्होंने कुछ रातों के लिए किया।

READ  पुरुष होने के नाते अंडरवियर के बारे आपको ये भी पता होना चाहिए!

– इससे जो रिजल्ट सामने आए, उसने लोगों को भी हैरत में डाल दिया है। कॉलीन का दावा है कि इस तरीके से हर रात एक इंच पेट कम हो जाता था।

सबसे पहले अपने पेट पर सीवीड लोशन लगा लिया

उसके बाद इस तरह से पेट पर प्लास्टिक बांध लीजिए। ध्यान रखिए कि प्लास्टिक काफी टाइट ना बांधे। वरना सोने में परेशानी होगी।

प्लास्टिक को टिकाने के लिए उसके ऊपर बैंडेज बांध लीजिए।