Jio से जुड़कर कमाई का मौका, इस योजना में हर महीने होगी अच्छी इनकम !!

नई दिल्ली : टेलीकॉम मार्केट में सस्ते टैरिफ प्लान लॉन्च करने वाली कंपनी रिलायंस जियो (Reliance Jio) आपको कमाई करने का मौका दे रही है. कंपनी के साथ जुड़कर आप हर महीने कमाई कर सकते हैं. रिलायंस जियो नेटवर्क को मजबूत बनाने के लिए एक लाख नए टॉवर लगाएगी. पिछले दिनों खबर भी आई थी कि टेलीकॉम कंपनियां कॉल ड्रॉपिंग की समस्या से निजात पाने के लिए 74 हजार करोड़ रुपए का निवेश करेंगी. इसमें से 16 हजार करोड़ का निवेश एयरटेल और 50 हजार करोड़ का निवेश जियो की तरफ से किया जाएगा.

डाटा की स्पीड में भी तेजी आएगी
ऐसे में जियो आने वाले नए वित्त वर्ष यानी 1 अप्रैल 2018 से देश में करीब एक लाख टॉवर लगाएगा. पहले चरण में भी कंपनी ने टॉवर लगाने पर बड़ा इनवेस्ट किया था. कंपनी की तरफ से पिछले साल ही नए वित्त वर्ष में टॉवर लगाने की घोषणा की गई थी. नए टॉवर लगने से कंपनी का नेटवर्क मजबूत होगा. साथ ही डाटा की स्पीड में भी तेजी आएगी.

टॉवर के लिए कर सकते हैं आवेदन
ऐसे में यदि आपके पास छत या जमीन है तो आप भी मोबाइल टॉवर के लिए आवेदन कर सकते हैं. अगर कंपनी की तरफ से की जाने वाली प्रक्रिया के तहत आपका आवेदन स्वीकार कर लिया जाता है तो आप हर महीने इनकम कर सकते हैं. कंपनी की तरफ से टॉवर लगाने पर हर महीने दी जाने वाली रकम ग्रामीण और शहरी क्षेत्र के हिसाब से अलग-अलग हो सकती है.

इतना स्पेस जरूरी
अगर आप भी अपनी छत या जमीन पर टॉवर लगवाने के लिए आवेदन करना चाहते हैं तो सबसे पहले यह जांच लें कि आपके पास कंपनी के नियमों के अनुसार जमीन या छत है या नहीं. छत पर टावर लगवाने के लिए कम से कम 500 वर्ग फीट जगह होनी चाहिए. वहीं, यदि आपके पास प्लॉट है तो इसका एरिया कम से कम 2000 वर्ग फीट (करीब 222 गज) होना चाहिए.

READ  Smartphone की बैटरी लाइफ बढ़ाने के लिए कब कैसे और कितना करें चार्ज, जानें !!

कंपनी को दें पूरी डिटेल
दरअसल टेलीकॉम कंपनियां प्राइवेज कंपनियों के जरिये मोबाइल टावर लगवाती हैं. मोबाइल टावर लगाने वाली कुछ कंपनियों में इंडस टावर्स, अमेरिकन टॉवर कॉरपोरेशन, भारती-इन्फ्राटेल, एटीसी, वायोम, जीटीएल प्रमुख हैं. ये कंपनियां अलग- अलग लोकेशन पर मोबाइल टावर लगाने का काम करती हैं. अगर आप इच्छुक हैं तो संबंधित कंपनी की वेबसाइट पर जाएं. यहां आपको अपनी प्रॉपर्टी से जुड़ी सभी जानकारी मसलन आपका प्लॉट है या छत, प्रॉपर्टी रेजिडेंशियल है या कमर्शियल और यह प्रॉपर्टी किसके नाम है आदि की जानकारी देनी होगी. साथ ही शहर और राज्य की भी जानकारी देनी होगी.

ये हो सकती है इनकम
मोबाइल कंपनियां अलग-अलग लोकेशन के हिसाब से टावर का रेंट देती हैं. अगर आपकी प्रॉपर्टी शहरी इलाके में हैं तो किराया ज्यादा मिलेगा. सेमी अर्बन एरिया में रेंट कम और ग्रामीण इलाके में और कम किराया मिलता है. इन कंपनियों की तरफ से शहरी क्षेत्र का किराया आमतौर पर 25 से 30 हजार रुपये महीने तक होता है. अगर सॉयल टेस्टिंग और लोकेशन आदि की टेस्टिंग के बाद आपकी प्रॉपर्टी का चुनाव हो जाता है तो पहले कंपनी और प्रॉपर्टी मालिक के बीच एक करार होता है. इसके तहत टावर लगाने का पूरा खर्च कंपनी की तरफ से उठाया जाता है.

ये दस्तावेज जरूरी
अगर आप जियो के टावर के लिए आवेदन करते हें तो आपके पास जमीन के पेपर की फोटोकॉपी, सिविक बॉडी से एनओसी के पेपर, लैंड सर्वे रिपोर्ट और आईडीप्रूफ होना जरूरी है. इन कागजातों की मूल प्रति को आपको कंपनी के मांगने पर प्रस्तुत करना होता है.

READ  Sashastra Seema Bal (SSB) में निकली बंपर भर्ती, कांस्टेबल (जीडी) के 355 पदों के लिए भर्ती