बढ़ते वजन को तुरंत रोकती हैं ये सस्ती सब्जियां, 1 बार जरूर करें ट्राई

वजन बढ़ने के कई कारण हो सकते हैं। शरीर में कुछ हार्मोंस का बदलाव होना वजन बढ़ने का बड़ा कारण होता है। किसी का वजन दवाई के साइड-इफेक्ट से भी बढ़ सकता है। आपकी खानपान की आदत, गलत जीवनशैली, किसी बीमारी के कारण भी हार्मोंस में परिवर्तन हो रहा है, आप अपनी नींद से कम सो रहे हैं, तो भी आपका वजन बढ़ सकता है। लेकिन सही जीवनयापन न करने से आप भी हो सकते हैं मोटापे का शिकार। अगर आप वजन घटाना चाहते हैं तो पहले आपको उसके बढ़ने के कारणों को भी जानना होगा।

वजन कम करती हैं सब्जियां

आजतक आपने वजन कम करने के लिए एक्सरसाइज और मील स्किप के बारे में सुना होगा। लेकिन आज हम आपको वजन घटाने के लिए सब्जियों के प्रयोग बता रहे हैं। जी हां, कुछ सब्जियां ऐसी भी होती हैं जो तेजी से वजन घटाने में मदद करती हैं। सबसे अच्छी बात यह है कि ये सब्जियां बहुत महंगी नहीं बल्कि बहुत सस्ती होती हैं। तोरई, घिया और कदू कुछ ऐसी सब्जियां हैं जो वजन कम करने के लिए किसी वरदान से कम नहीं हैं। आप चाहे तो इनकी सब्जी और चाहे तो इनका जूस बनाकर भी पी सकते हैं।

तोरई

एक तुरई में लगभग 95 प्रतिशत पानी और केवल 25 प्रतिशत कैलोरी होती है। जिससे वजन नहीं बढ़ता। इसमें संतृप्त वसा और कोलेस्ट्रॉल की भी बहुत ही सीमित मात्रा होती है जो वजन कम करने में सहायक होती है।

ऐसे कम करती है वजन

  • तुरई की सब्जी पचाने में आसान होती है जिस कारण ये अस्वस्थ व बीमार लोगों के लिए काफी फायदेमंद होती है। इसी वजह से कब्जी की समस्या भी नहीं होती है।
  • यह रक्त और मूत्र में शर्करा के स्तर को कम करने में सहायक होता है जिस वजह से ये डायबिटीज के रोगियों के लिए फायदेमंद हो सकती है।
  • एक तुरई में 95 प्रतिशत पानी और केवल 25 फीसदी कैलोरी होती है। जिस के कारण कितनी भी मात्रा में इसे खाने से वजन नहीं बढ़ता।
  • इसमें संतृप्त वसा और कोलेस्ट्रॉल बहुत ही सीमित मात्रा में होता है जो वजन कम करने में सहायक है।
  • इससे न केवल रक्त शुद्ध होता है बल्कि बवासीर जैसे रोग में भी राहत मिलती है।
READ  जर्मन डॉक्टरों का दावा अब दही अलसी से भी ख़त्म होगा कैंसर !

वजन घटाने के लिए लौकी ज्यूस से जुड़े गुण और लाभ

वजन घटाने के लिए आम तौर पर लौकी का इस्तेमाल तरल रूप ( Liquid form) में किया जाता है. इसमें ऐसे कई पोषक तत्व मौजूद हैं जो एक स्वस्थ जीवन शैली को बनाए रखने में मदद करते हैं. लौकी का ज्यूस मोटापा घटाने में कैसे सहायता कर सकता है आईए हम इस बारे में यहाँ चर्चा करते है.

कैलोरी कि कम मात्रा – 96% पानी से बनी लौकी में कैलोरी कि मात्रा बहुत कम होती हैं, जो कुशलतापूर्वक चरबी को कम करती है. इसीलिए इसे लगभग हर मोटापा घटाने वाली डाइट प्लान में लो कैलोरी पोषण आहार में शामिल किया जाता है.

फाइबर कि अधिक मात्रा – इसमें फाइबर कि मात्रा बहुत अधिक होती है जो लंबे समय तक आपके पेट को भरा रखती है, इस तरह यह आपकी बार–बार लगने वाली भूख को कम करती है. इसके अलावा यह बड़ी आंत में अच्छे बेक्टेरिया को तृप्त करने (feeding good bacteria in large intestine) में मदद करती है, जो मोटापे को कम करने में और तंदुरुस्ती प्राप्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है. लौकी में अघुलनशील फाइबर (insoluble fiber) के साथ घुलनशील फाइबर (soluble fiber) है, जो पाचन तंत्र को सुधारने में मदद करता है.

प्रोटीन से भरपूर – यह प्रोटीन और अन्य पोषक तत्वों से बेहद भरपूर है जो मांसपेशियों के निर्माण और शरीर में चरबी को कम करने में सहायता करते हैं. इसके अलावा हम सभी जानते हैं कि प्रोटीन कि अच्छी मात्रा हमारी चयापचय कि क्रिया (metabolism) को बेहतर कर चरबी को जलाने में सहायता करती है.

READ  जौ (Barley) एक चमत्कारी औषधि, गठिया और पथरी का करता है नाश

पानी और फाइबर कि अधिक मात्रा के कारण लॉकी के ज्यूस में ऊर्जा का घनत्व बहुत कम (low energy density or low calorie per gram) होता है जो मोटापा कम करने में मदद करता है.

एंटीऑक्सीडेंट – इसमें कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम होता है. इसमे एंटी ऑक्सीडेंट गुण होते है जो शरीर से हानिकारक विषैले पदार्थों (toxins) को निकालकर शरीर के वजन का संतुलन बनाए रखने में मदद करते हैं.

करेला

करेला वजन कम करने के साथ−साथ ब्लड शुगर को कंट्रोल करने में विशेष रूप से सहायक है| इसको सब्जी, रस, सूप के रूप में लिया जा सकता है| इसे अन्य प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों के साथ लेने से अधिक लाभ मिलता है|

करेला पाचन के लिए काफी अच्छा है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स मेटाबॉलिक रेट बढ़ाते हैं जिससे कैलोरी तेजी से बर्न होती है। इसके अलावा, इसमें कैलोरी बहुत कम होती है। वजन घटाने के लिए अपने डाइट प्लान में इसे जरूर शामिल करें।

 

वजन बढ़ने के सामान्‍य कारण

  • ऐसा नहीं है कि अधिक खाना खाने वाले लोग ही मोटापे का शिकार होते हैं बल्कि कम खाने वाले लोग भी मोटापे का शिकार हो सकते हैं।
  • मोटापा कभी भी किसी को भी हो सकता है। इसीलिए मोटापे से बचने के लिए पौष्टिक खान-पान का ध्यान रखना बेहद जरूरी हैं।
  • नियमित रूप से जंकफूड खाना या फिर बाहर का खाना खाने से मोटापा बढ़ता है।
  • खाना, सोना, उठना इत्यादि का नियमित समय न होने से भी मोटापा बढ़ता है।
  • योग, व्‍यायाम और अन्‍य शारीरिक क्रिया-कलापों से दूर रहना।
  • खाने के तुरंत बाद पानी पीना भी मोटापा बढ़ाने का कारण है।
  • बहुत अधिक तैलीय पदार्थों का सेवन और तरल पदार्थों की कमी से भी वजन बढ़ता है।
  • नशीले पदार्थों और एल्कोहल इत्यादि का अधिक सेवन भी वजन बढ़ाने में मददगार है।
  • अधिक वसा इत्यादि का सेवन या फिर अधिक मात्रा में कैलोरी लेना लेकिन उसको बर्न न करने से भी मोटापा बढ़ता है।
  • कोई बीमारी जैसे कब्ज इत्यादि होने से भी मोटापा बढ़ने में मदद मिलती हैं।
  • कई बार कुछ दिनों के लिए जिम ज्वाइन कर और बीच में ही उसे छोड़ दे तो भी मोटापा बढ़ जाता है।
  • अचानक रूटीन में बदलाव आने से भी मोटापा बढ़ जाने की संभावना रहती है।
  • मोटापे से पेट संबंधी और स्वास्‍थ्‍य संबंधी कई बीमारियां बढ़ जाती हैं और थोड़ी-थोड़ी देर में ही थकान होने लगती हैं।
  • मोटापे से बचने के लिए सबसे सरल उपाय यही है कि प्रतिदिन योगासन करें, व्यायाम करें। अधिक से अधिक सब्जियां खाएं और कुछ ना कुछ शारीरिक श्रम अवश्य करते रहें।
READ  झोलाछाप डॉक्टर से उखड़वाया दांत तो हुआ कैंसर, सिर के बराबर सूजा चेहरा, कुछ भी खाना तक हुआ मुश्किल

Related Post