ऐसे होता है किन्नरों का अंतिम संस्कार, जानना चाहेंगे क्या होता है इनकी डेड बॉडी के साथ?

किन्नरों की दुनिया काफी रहस्यमयी है। उनके बारे में जानने की जिज्ञासा सबको रहती है लेकिन जानकारियां अब तक कम ही मिल पाई हैं। किन्नरों से जुड़ा एक विषय है जिसे काफी गोपनीय रखा जाता है। ये विषय है मौत,क्या होता है जब किसी किन्नर की मौत होती है?आज हम आपको बताते हैं कि कैसे किया जाता है किन्नरों का अंतिम संस्कार…

-जब किसी किन्नर की मौत होती है तो सबसे पहले उसकी डेड बॉडी को सफ़ेद कपड़े में लपेटा जाता है। बॉडी पर कोई भी बंधी हुई चीज नहीं छोड़ी जाती। ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि उसकी आत्मा फ्री हो जाए और किसी तरह के बंधन और रिश्ते से वह हमेशा के लिए मुक्त रहे।

-अंतिम संस्कार से पहले शव को जूते-चप्पलों से पीटा जाता है। ऐसी मान्यता है कि इससे उस जन्म में किए सारे पापों का प्रायश्चित हो जाता है।

-किन्नरों के अंतिम संस्कार को चोरी-छुपे किया जाता है ताकि इसे कोई न देख सके। ऐसा माना जाता है कि अगर किन्नर की शव यात्रा को किसी आम व्यक्ति ने देख लिया तो मरने वाला का अगला जन्म भी किन्नर के रूप में ही होगा। इसी वजह से आम व्यक्ति की शव यात्रा को दिन में निकाला जाता है वहीं,किन्नरों की अंतिम यात्रा रात में निकालने का रिवाज है।

-ज्यादातर किन्नर हिंदू धर्म को मानते हैं और इस धर्म के अनुसार शव को जलाया जाता है लेकिन किन्नरों के साथ ऐसा नहीं किया जाता। उन्हें दफनाने का रिवाज सदियों से चला आ रहा है।

-जहां आम व्यक्ति की मौत पर उसके परिजन मातम मनाते हैं वहीं,किन्नर की मौत पर ऐसा नहीं किया जाता।उनकी मौत पर शोक नहीं मनाया जाता है क्योंकि उनके परिजन इस बात से खुश होते हैं कि मरने वाले को नरक रूपी जीवन से मुक्ति मिल गई। साथ ही अराध्य देव अरावन से ये कामना करते हैं कि अगले जन्म में मरने वाले को दोबारा किन्नर न बनाएं।

READ  सभी प्रकार के हृदय रोगो में उपयोगी अपानवायु मुद्रा - Apan Vayumudra Ke Fayde

Courtesy www.Bhaskar.com