ये हैं ब्रेन ट्यूमर के संकेत, भूलकर भी न करें इग्नोर-इलाज में देरी जानलेवा हो सकती है

अगर आपको आए दिन सिर दर्द की शिकायत रहती है जो दवा खाने से ठीक हो जाती है लेकिन फिर उभर आती है तो सावधान हो जाएं, क्योंकि ये लक्षण ब्रेन ट्यूमर की सबसे शुरुआती स्टेज के भी हो सकते हैं। ब्रेन ट्यूमर एक खतरनाक बीमारी है। अगर सही समय पर इस बीमारी का पता चल जाए तो इससे बचाव संभव है। इलाज में देरी होने पर ये जानलेवा हो सकता है और इससे मानसिक विक्षिप्तता भी आ सकती है।

ब्रेन ट्यूमर की स्थिति में दिमाग में बहुत सी कोशिकाएं या कोई एक कोशिका असामान्य रूप से बढ़ती रहती है जिसके कारण अन्य कोशिकाएं क्षतिग्रस्त होती रहती हैं। कई बार ब्रेन ट्यूमर अनुवांशिक भी हो सकता है और कई बार रेडिएशन में ज्यादा रहने या केमिकल के संपर्क में रहने से भी ये रोग हो जाता है। ब्रेन ट्यूमर को उसके शुरुआती लक्षणों से पहचाना जा सकता है इसलिए इन लक्षणों को आपको भी जानना चाहिए।

ब्रेन टयूमर कई शेप और साइज में होता है इसी तरह इसके सिम्टम भी होते हैं। न्यूरोसर्जन के एमडी Theodore Schwartz कहते हैं कि संकेत ट्यूमर की लोकेशन पर डिपेंड करते हैं। जैसे कि अगर आपको ट्यूमर ब्रेन के एकदम पास है तो ये आपके आर्म और आईशाइट को अफेक्ट करेगा। वही दूसरे पार्ट में होने पर आपको धुंधला दिखने के साथ ही जोड़ो में दर्द होगा। लेकिन डॉक्टर्स के अनुसार कुछ ऐसे कॉमन सिम्टम हैं, जिनसे इस खतरनाक बीमारी को पहचाना जा सकता है।

ऐसे होता है ब्रेन ट्यूमर

शरीर में बनने वाली सेल्स कुछ समय बाद नष्ट हो जाती हैं और उनकी जगह नई सेल्स बन जाती हैं। यह एक साधारण प्रक्रिया है। जब यह प्रक्रिया बाधित हो जाती है, तो ट्यूमर सेल्स बनने लगती हैं। ट्यूमर कई कारणों से बन सकते हैं। यह रोग विशेष प्रकार के विषाणु के संक्रमण से, प्रदूषित पदार्थो का सांस लेने के साथ शरीर के अंदर चले जाने से यह सेल्स इकट्ठा होकर टिश्यू बनाती हैं। ये सेल्स मरती नहीं हैं और इसलिए समय के साथ ट्यूमर भी बढ़ता जाता है। ट्यूमर मस्तिष्क के जिस क्षेत्र में बनता है, उस क्षेत्र के कार्य करने की प्रक्रिया बाधित हो जाती है।

READ  भयंकर से भयंकर कमरदर्द और स्लिप डिस्क का इलाज - Slip Disc Ka ilaj

किसी भी हिस्से का अचानक सुन्न हो जाना

बॉडी या फेस के किसी भी हिस्से का अचानक सुन्न हो जाना। ब्रेन के किसी भी हिस्से पर ट्यूमर होने पर ऐसा होता है।

अलग तरह के चक्कर आना

किसी भी प्रकार का ब्रेन ट्यूमर हो इसका पहला संकेत सीजर होता है। इसमें अचानक से ब्रेन में बिजली जैसी चमकती है और चक्कर आते हैं। इसमें कभी पूरी बॉडी अकड़ सकती है तो कभी झटके लग सकते हैं, तो कभी अचानक से बॉडी झुक या मुड़ सकती है।

उल्टी आना या जी मचलाना

डॉक्टर Schwartz के अनुसार उल्टी आना या जी मचलाना जैसे संकेतों के बारे में ज्यादा एक्सप्लेन नहीं किया जा सकता। लेकिन ये टयूमर के संकेतों में से एक है।

चीजें याद न रहना

अगर आप कौन सी चाबी किस चीज की है भूल रहे हैं। आपको सीढ़ियां याद नहीं रहती और अपने बैलेंस को याद रखने के लिए परेशानी हो रही है तो ये अलर्ट होने का समय है।

विजन चेंज हो जाना

ब्लर या डबल विजन या कम दिखाई देने लगना भी ब्रेन ट्यूमर का संकेत है। बोलने और निगलने में परेशानी होना। फेशियल एक्सप्रेशन चेंज होने पर डॉक्टर से कंसल्ट करना चाहिए।

दौरे पड़ना

ब्रेन ट्यूमर की स्थिति में जब प्रभावित कोशिकाएं दिमाग के अंदर अपना जाल बिछाना या फैलना शुरू करती हैं तो इससे आसपास की कोशिकाओं पर प्रभाव पड़ता है, जिससे कई बार रोगी को बार-बार दौरे पड़ने शुरू हो जाते हैं।

पैरालिसिस जैसा महसूस होना

ब्रेन ट्यूमर की स्थिति में कई बार इंसान के शरीर के अंगों से दिमाग का कंट्रोल हट जाता है तो उसे उस अंग विशेष की संवेदना महसूस नहीं होती है। ऐसे में रोगी को पैरालिसिस जैसा महसूस होता है। ऐसी स्थिति में बाजू और पैर काम करना बंद कर देते हैं। ये स्थिति तब आती है जब व्यक्ति के दिमाग के पैराइटल लोब पर ट्यूमर होता है।

READ  जोड़ों घुटनों गठिया संधिवात के दर्द की सरल चिकित्सा - Ghathiya ka ilaj - Jodo ke dard ka ilaj

बोलने में परेशानी

दिमाग में शरीर के हर अंग को जोड़ती हुई कोशिकाएं मौजूद होती हैं इसलिए ट्यूमर की कोशिकाएं जिस भी कोशिका के आसपास से गुजरती हैं वो प्रभावित होती है। ऐसे ही जब ये कोशिकाएं टैंपोरल लोब में प्रवेश करती हैं तो व्यक्ति को बोलने में परेशानी होने लगती है। ऐसे में आवाज चली जाने के साथ-साथ व्यक्ति का मुंह एक तरफ को अकड़ने लगता है।

चिड़चिड़ापन और स्वभाव परिवर्तन

ब्रेन ट्यूमर की वजह से सिर्फ हमारे शरीर के अंगों की क्रिया और मानसिक क्रिया ही नहीं प्रभावित होती, बल्कि इससे हमारे स्वभाव पर भी असर पड़ता है। अगर ये ट्यूमर फ्रन्टल लोब में पहुंच जाता है तो व्यक्ति के व्यवहार में परिवर्तन आने लगता है। वो अपने व्यवहार पर नियंत्रण नहीं रख पाता है और चिड़चिड़ापन या उदासी उसे घेर लेती है।

सुनने में समस्या होना

ब्रेन ट्यूमर जब व्यक्ति के टैंपोरल लोब में पहुंच जाता है तो इससे सिर्फ बोलने की क्षमता नहीं प्रभावित होती, बल्कि इससे व्यक्ति को सुनने में भी परेशानी होने लगती है। कई बार तो ऐसा महसूस होता है जैसे कान का पर्दा फट गया हो।

हाथ-पैरों में ऐंठन

ट्यूमर सेल्स का प्रवेश जब पैराइटल लोब में होने वाला होता है तब ऐसी स्थिति आ जाती है जिसमें अचानक से व्यक्ति के हाथ-पैर अकड़ने लगते हैं। उसे ऐसा महसूस होने लगता है जैसे कि उसके शरीर के सभी अंग निष्क्रिय हो रहे हैं। ये पैरालिसिस से पहले की स्टेज है।

कमजोरी का एहसास होना

ब्रेन ट्यूमर के शुरुआती लक्षणों में सिर दर्द के साथ कमजोरी महसूस होना भी शामिल है। दरअसल जब मस्तिष्क में ट्यूमर बनना शुरू होती हैं तो इससे आसपास की कोशिकाएं धीरे-धीरे प्रभावित होना शुरू हो जाती हैं, जिससे व्यक्ति को सिर दर्द महसूस होता है और उसके बाद पूरा शरीर कमजोर लगने लगता है।

READ  गुम चोट या अन्धरुनी चोट के लिए रामबाण हैं राई के दाने आइये जानते Rai ke fayde