मॉर्चुरी में हो रही थी पोस्टमार्टम की तैयारी, तभी ‘मुर्दे’ ने पकड़ लिया हाथ

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है. यहां पर एक शव को पोस्टमार्टम के लिए मॉर्चुरी ले जाया गया. पोस्टमार्टम की तैयारी की जा रही थी, डॉक्टर और स्वीपर भी अंदर पहुंच चुके थे, कि तभी मुर्दे ने हाथ पकड़ लिया. घटना से हैरान डॉक्टर ने तुरंत स्थिति संभाली और उसे वार्ड में ले जाया गया. पता चला कि जिसे मुर्दा समझ मॉर्चुरी में रखा गया था, वो युवक जिंदा था. युवक का तुरंत इलाज शुरू किया गया. उसकी स्थिति स्थिर बताई जा रही है.

ये है पूरा मामला

जानकारी के मुताबिक, रविवार को परासिया के मोआरी में एक दुर्घटना के दौरान कुछ लोग घायल हो गए थे. उन्हें इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया. यहां डॉक्टरों ने एक घायल युवक को मृत घोषित कर दिया. परिजनों को इस पर यकीन नहीं हुआ, वे उसे नागपुर के अस्पताल ले गए, जहां युवक को एक बार फिर मृत घोषित करते हुए शव को वापस छिंदवाड़ा भेज दिया गया.

पोस्टमार्टम की थी तैयारी

छिंदवाड़ा अस्पताल में शव को मॉर्चुरी में ले जाया गया, जहां उसका पोस्टमार्टम किया जाना था. इसके बाद शव को परिजनों को सौंप दिया जाता. पोस्टमार्टम की सारी तैयारी होने पर डॉक्टर और स्वीपर मॉर्चुरी में पहुंचे. लेकिन जैसे ही वे युवक के नजदीक पहुंचे उसने उनका हाथ पकड़ लिया.

पहले तो इस घटना से वहां मौजूद डॉक्टर व अन्य हक्के-बक्के रह गए. लेकिन फिर डॉक्टर ने तुरंत युवक को वार्ड में ले जाने को कहा. जहां जांच में सामने आया कि युवक की सांसे धीमी-धीमी चल रही थीं. तत्काल उसका इलाज शुरू किया गया. स्थिति संभलने पर उसे एक बार फिर बेहतर इलाज के लिए नागपुर अस्पताल रेफर कर दिया गया.

READ  भारत को घेरने में जुटा चीन, चाबहार पोर्ट को पाकिस्तान से जोड़ने का ईरान के सामने रखा प्रस्ताव

परिजनों में गुस्सा

इस घटना के बाद से युवक के परिजनों में काफी आक्रोश है. वे इसके लिए सीधे तौर पर अस्पताल को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं. हालांकि, इस मामले में फिलहाल अस्पताल की ओर से कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है.