एहसान मानिए सिनेमा का, नहीं तो गुमनाम रह जाते असल ज़िंदगी के ये महानायक!

बॉलीवुड में इन दिनों बायोपिक फ़िल्मों को काफ़ी तवज्जो दी जा रही है। इनमें कुछ फ़िल्में ऐसी होती हैं, जो किसी मशहूर ऐतिहासिक चरित्र, खिलाड़ी या शख़्सियत के इर्द-गिर्द घूमती हैं। वहीं कुछ फ़िल्मों के हीरो गुमनाम होते हैं। उन्होंने रियल लाइफ़ में कोई ऐसा काम किया होता है, जिसने लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित किया हो और यही काम उन्हें हीरो बनाता है, मगर उनके बारे में कम ही लोग जानते हैं।

Super 30

ऐसी ही एक कहानी के नायक हैं ग्रीक गॉड कहे जाने वाले रितिक रोशन, जो मैथमेटिशियन आनंद कुमार का किरदार निभाने जा रहे हैं। आप पटना के आनंद कुमार को भले ना जानते हों, मगर सुपर 30 सुनते ही आंखों में चमक ज़रूर आती होगी। आनंद कुमार सुपर 30 नाम की कोचिंग क्लासेज़ के संस्थापक हैं। आप सोचेंगे, इसमें क्या हीरोइज़्म है? आनंद का हीरोइज़्म ये है कि उनकी कोचिंग की मदद से ग़रीब तबके के सैकड़ों छात्र-छात्राएं जेईई (आईआईटी) जैसा मुश्किल एग्ज़ाम क्रेक करके इंजीनियर बन चुके हैं, वो भी मुफ़्त में।

click here for more detail 

विकास बहल आनंद की बायोपिक ‘सुपर 30’ डायरेक्ट कर रहे हैं। फ़िल्म की शूटिंग वाराणसी में शुरू हो चुकी है और रितिक आनंद के किरदार में इस तरह उतर चुके हैं कि देखकर यक़ीन कर पाना मुश्किल है कि बॉलीवुड का हैंडसम हंक ऐसा रूप भी ले सकता है। वैसे प्रकाश झा की फ़िल्म आरक्षण में सुपर 30 के कांसेप्ट की झलक देखी जा चुकी है, जिसमें अमिताभ बच्चन नि:शुल्क शिक्षा देने वाली कोचिंग के संचालक बने थे।

READ  आजादी और विभाजन की दास्तां है फिल्म 'पार्टीशन 1947'

AIRLIFT

कुवैत युद्ध में फंसे भारतीय नागरिकों की सुरक्षा के लिए भारत सरकार पर काफ़ी तनाव बढ़ रहा था, जिसके बाद एयर इंडिया और भारतीय सेना की मदद से इस यादगार ऑपरेशन को सफ़ल बनाया गया, जो आज भी विश्व के इतिहास में दर्ज़ है.

अक्षय की फिल्म एयरलिफ्ट की कहानी उसी रहस्यमयी कारोबारी की कहानी है। फिल्म में उस कारोबारी का नाम रंजीत कत्याल रखा गया है। उस कारोबारी का असली नाम क्या है रंजीत है या कुछ और इस बारे में कोई जानकारी नहीं है। कहा जाता है कि 1990 जब में कुवैत सद्दाम हुसैन की दहशत से कांप रहा था तब वहां के लोग रातोंरात सऊदी अरब में शरण पाने के लिए रातोंरात पलायन कर रहे थे।

जानकारी के मुताबिक 81 वर्षीय बिजनेसमैन मथुनी मैथ्यूज, जो केरल के पथानामथीट्‍टा जिला के अंतर्गत आते कस्‍बे कुम्बानद के रहने वाले थे, का देहांत कुवैत में हुआ।

click here for more detail 

मथुनी मैथ्यूज के देहांत पर शोक व्‍यक्‍त करते हुए केरल के मुख्‍यमंत्री पिनाराय विजयन ने कहा, ‘1990 के खाड़ी युद्ध के दौरान मथुनी मैथ्यूज ने खाड़ी देश छोड़ने में हजारों भारतीयों की मदद की थी और उनके इस कार्य को हमेशा याद रखा जाएगा।’

उधर, फिल्‍मकार निखिल अडवाणी ने ट्विटर खाते पर लिखा, ‘बीती रात असली रंजीत कटियाल एएलएस (Amyotrophic Lateral Sclerosis) के साथ अपनी लड़ाई हार गया।’ इतना ही नहीं, इस ख़बर पर बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार ने भी शोक व्‍यक्‍त किया है।

उस समय कई मुश्किलें थी, जिसके कारण भारत सरकार के सामने सीमित विकल्प ही मौजूद थे. इस ऑपरेशन को बेहद सावधानी से बनाया गया था. लगभग 59 दिनों के लिए एयर इंडिया की 488 Commercial फ्लाइट्स ने युद्ध क्षेत्र के लिए उड़ाने भरीं और 1,70,000 भारतीयों को सुरक्षित रूप से वापस घर ले कर आएं.

READ  मुस्लिम समुदाय के कारण पद्मावत मलेशिया में हुई बैन-सेंसर बोर्ड ने नहीं दी मंजूरी

The Real Padman

अक्षय कुमार सुपरस्टार हैं, मगर ‘पैडमैन’ में वो एक ऐसे इंसान के रोल में दिखायी दे रहे, जिसे तब ही शोहरत मिली, जब पता चला कि अक्षय उसका रोल निभा रहे हैं। ये शख़्स हैं अरुणाचलम मुरुगनाथम, जो तमिलनाडु के छोटे उद्यमी हैं। अरुणाचलम ने कम क़ीमत के सेनिटरी पैड बनाने की शुरुआत की थी, जो महिलाओं के लिए एक क्रांतिकारी क़दम है। इस फ़िल्म को आर बाल्की ने डायरेक्ट किया है, जबकि राधिका आप्टे अक्षय की पत्नी के किरदार में दिखायी देंगी। फ़िल्म 9 फरवरी को रिलीज़ हो रही है।

click here for more detail 

Mahaveer Phogat -Movie Dangal

आमिर ख़ान ‘दंगल’ में रेस्लिंग चैंपियन और कोच महावीर फोगाट के रोल में थे। महावीर ने देश को मैडल दिलाने का सपना देखा और बेटियों को चैंपियन रेस्लर बनाया। महावीर के हीरोइज़्म को डायरेक्ट नितेश तिवारी आमिर ख़ान के ज़रिए पर्दे पर लाये। दंगल से पहले गीता और बबीता को तो लोग जानते थे, मगर महावीर फोगाट का नाम आम जनता के लिए नया था।

‘माउंटेनमैन’ दशरथ मांंझी

‘माउंटेनमैन’ दशरथ मांंझी की कहानी केतन मेहता लेकर आये। पहाड़ रास्ते में आने की वजह से दशरथ की पत्नी की जान चली गयी थी, दशरथ ने उस पहाड़ को ही काट डाला। सालों लगे, मगर दशरथ का हौसला बना रहा। दशरथ ने पत्नी की मौत के बाद अकेले पहाड़ काटकर जो रास्ता बनाया, वही उनका हीरोइज़्म है।

मंजूनाथ

संदीप ए वर्मा की फ़िल्म ‘मंजूनाथ’ एक ऑयल कंपनी में काम करने वाले शख़्स की कहानी थी, जो पैट्रोल पंपों पर होने वाली मिलावट को उजागर करता है और उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई करने का दम दिखाता है, जिसकी क़ीमत उसे अपनी जान देकर चुकानी पड़ती है।

READ  क्या सच में हो चुकी है दीपिका पादुकोण और रणवीर की सगाई !!!

click here for more detail 

शाहिद

हंसल मेहता की फ़िल्म ‘शाहिद’, लॉयर शाहिद आज़मी की बायोपिक फ़िल्म है, जिनकी 2010 में हत्या कर दी गयी थी। शाहिद आतंकवाद के आरोप में फंसे लोगों का केस लड़ते थे। फ़िल्म में राजकुमार राव ने टाइटल रोल निभाया था।

नीरजा भनोत

‘नीरजा’, फ्लाइट अटेंडेंट नीरजा भनोत की बायोपिक फ़िल्म है। राम माधवानी डायरेक्टेड फ़िल्म में सोनम कपूर ने टाइटल रोल निभाया। नीरजा ने प्लेन हाईजैक होने के बाद कई यात्रियों की जान बचायी थी। इसी कोशिश में उनकी जान चली गयी। नीरजा को इस हीरोइज़्म के लिए कई अवॉर्ड्स से सम्मानित किया गया।

Related Post