जब क्रिकेट चैंपियन विराट कोहली एंड टीम की कोलंबो में wwe के चैंपियन खली से हुई मुलाक़ात !!

जब क्रिकेट चैंपियन विराट कोहली की कोलंबो में कुश्‍ती के चैंपियन खली से हुई मुलाक़ात

रविवार का दिन भारत के स्‍टार क्रिकेटर – विराट कोहली के सचमुच एक शानदार दिन साबित हुआ। विराट ने न केवल रविवार के दिन कोलंबो में भारतीय क्रिकेट टीम को श्रीलंका के खिलाफ दूसरे टेस्‍ट मैच में 53 रनों और पारियों से जीत दिलायी, बल्कि इस आरसीबी चैंपियन की वर्ल्‍ड रेस्लिंग एंटरटेनमेंट (डब्‍ल्‍युडब्‍ल्‍युई) कुश्‍ती के चैंपियन, द ग्रेट खली से मुलाक़ात भी हुई।

द ग्रेट खली उर्फ दलीप सिंह राणा से मिलकर भारत के इस 28-वर्षीय कप्‍तान की खुशियों का मानो कोई ठिकाना नहीं था। रॉयल चैलेंजर बेंगलुरू की आईपीएल टीम के इस नेतृत्‍वकर्ता खिलाड़ी ने अपने उत्‍साह को सोशल मीडिया पृष्‍ठों पर साझा करते हुए कहा, ”द ग्रेट खली से मिलना अद्भुत था, कमाल के इंसान हैं!”

जब क्रिकेट चैंपियन विराट कोहली की कोलंबो में कुश्‍ती के चैंपियन खली से हुई मुलाक़ात
7 फीट 1-ईंच के कद वाले खली के साथ विराट ने काफी उम्‍दा तस्‍वीरें साझा की और इंटरनेट पर मानो छा गये। ट्विटर पर इन दो एथलीटों की मुलाकात पर टिप्‍पणियों की बौछारें हो रही थीं।

जब क्रिकेट चैंपियन विराट कोहली की कोलंबो में कुश्‍ती के चैंपियन खली से हुई मुलाक़ात
डब्‍ल्‍युडब्‍ल्‍युई रिंग के भीतर कुछ उल्‍लेखनीय मुकाबलों के दौरान कई अवसरों पर भारत का सिर गर्व से ऊंचा करने वाले, इस पंजाबी कुश्‍तीबाज ने क्रिकेट चैंपियन, विराट कोहली के साथ अच्‍छा समय बिताया। स्रोतों से पता चला कि खेल के प्रति अपनी दीवानगी के चलते दोनों ही दिग्‍गजों के घुलने-मिलने में जरा भी समय नहीं लगा और उन्‍होंने क्रिकेट व कुश्‍ती से जुड़ी बातें की। भारतीय क्रिकेट टीम के अन्‍य सदस्‍यों, जैसे-शिखर धवन, हार्दिक पांड्या और केएल राहुल भी द ग्रेट खली से मिले और उन्‍होंने सोशल मीडिया पर अपनी तस्‍वीरें साझा की।

READ  जवान रहने के लिए महज 17 साल की उम्र से सांप का जहर नसों में भर रहा है यह शख्स !!

खली से मिलने के ठीक पहले, विराट कोहली ने श्रीलंका में अपनी जीत के बारे में बताया। उन्‍होंने कहा, ”भारत को दुनिया के किसी भी कोने में जाकर जीतने की आदत पड़ चुकी है और यह इस हेतु सतत प्रयासरत है। इस सीरीज को फिर से जीत कर अच्‍छा लगेगा। हमने पिछली बार वर्ष 2015 में भी इसे जीता। हां, हमारे पास वो मौका है, लेकिन ईमानदारी से कहूं तो अब हम टेस्‍ट मैच या टेस्‍ट क्रिकेट को घरेलू या बाहरी रूप में नहीं देख रहे हैं। हम टेस्‍ट मैचों को टेस्‍ट मैच के रूप में देख रहे हैं और हम खेलकर जीतना चाहते हैं चाहे खेल घरेलू पिच पर हो या बाहरी।”

उन्‍होंने आगे कहा, ”यदि हमें अपनी क्षमताओं पर भरोसा हो, तो हमें यह फिक्र नहीं हो सकती कि हम खेल कहां रहे हैं। मैं टीम के भीतर इस तरह की ऊर्जा महसूस कर सकता हूं और टीम को अपनी क्षमता पर भरोसा है। हम जीतने की आदत बना रहे हैं, जो मेरी समझ से भविष्‍य में भी बनी रह सकती है।”