कस्टम ने पकड़ी साल की सबसे बड़ी सोने की स्मगलिंग

एयर कार्गो से जेट पम्प्स का एक कंसाइनमेंट केम्पेगौड़ा एयरपोर्ट पर विदेश से आया। हालांकि, कस्टम के अधिकारियों ने जब इनकी जांच की तो उन्हें इन पम्प्स के भीतर से 33 किलो सोना मिला, जिसे देखकर मौके पर मौजूद अधिकारियों के होश उड़ गए।

जेट पम्प्स से की जा रही थी 2017 की सबसे बड़ी ‘गोल्ड स्मगलिंग’

केम्पेगौड़ा इंटरनैशनल एयरपोर्ट पर एयर कार्गो से बिना क्षति पहुंचाए जेट पम्प्स का एक कंसाइनमेंट दुबई से लाया गया। इन पम्प्स के अंदर 33 किलो सोना छिपाकर रखा गया था, जिसकी बाजार में कीमत 9.4 करोड़ रुपये है। बेंगलुरु कस्टम्स अधिकारियों के पास एक पुख्ता जानकारी थी कि शहर में भारी मात्रा में सोने की तस्करी एक एयर कार्गो के जरिए की जानी है। इसके बाद एयर इंटेलिजेंस यूनिट की टीम ने एयरपोर्ट परिसर में जहां पर सामान उतरता है वहां पर छानबीन की, जिसके दौरान जेट पम्प्स के अंदर से भारी मात्रा में सोना बरामद हुआ।

जेट पम्प्स के अंदर भरा गया था सोना

कस्टम टीम ने बुधवार को तकरीबन 8 बजकर 30 मिनट पर पम्प्स बरामद किए इसके बाद जांच में खुलासा हुआ कि इनके अंदर ठोस सोने को भरा गया है। एक सूत्र के मुताबिक, पम्प के भीतर 22 कैरट सोना पिघलाकर भरा गया है। इसके पहले इसे पेंट कर दिया गया ताकि यह जांच के वक्त स्कैनिंग मशीन की पकड़ में न आ सके।

साल 2017 की सबसे बड़ी कार्रवाई

साल 2017 में यह सोने की बड़ी खेप के जब्त होने की कार्रवाई के तौर पर देखी जा रही है। मतलब साफ है कि इस साल की सबसे बड़ी गोल्ड स्मगलिंग पर कस्टम ने कार्रवाई की है और तकरीबन 9 करोड़ की कीमत का सोना जब्त किया है। इसके साथ ही कस्टम अधिकारी दुबई से आए इस कंसाइनमेंट को रिसीव करने वाले को तलाशकर शिकंजा कसने के लिए तैयारी कर रहे हैं। यह सोना हाल ही में पहुंचा है लेकिन इस पर किसी की तरफ से भी दावा नहीं किया गया है।

READ  जानिए 2G घोटाले को उजागर करने वाले विनोद राय क्यों है कांग्रेस के निशाने पर

सोने को घर के सामान में बदल देते हैं!

विश्वसनीय सूत्रों का कहना है कि ऐसा अंदेशा है कि इसके पीछे केरल से जुड़े तस्कर हैं जिनका खाड़ी और बेंगलुरू में भी मजबूत आधार है। कस्टम अधिकारी ने बताया, ‘ये गैंग्स दुबई में सोने की दुकाने चलाते हैं जहां कुशल स्वर्णकार सोने को पिघलाकर उसे घरेलू सामग्री जैसे कि वाटर हीटर रॉड, माइक्रोवेव आदि में बदल देते हैं।’