क्या आप जानते हैं गोवा आजादी के 14 साल बाद तक बना रहा गुलाम

1947 में भारत आजाद हुआ पर इसके 14 साल बाद तक पुर्तगालियों का यहां कब्जा था।

आज अपनी प्राकृतिक खूबसूरती की वजह देश और दुनिया के सैलानियों की मनपसंद जगह बन चुका गोवा एक दौर में ऐसा था जिसकी आप कल्पना भी नहीं कर सकते। असल में भारत के इस राज्य में पुर्तगाल का कब्जा था। 1947 में भारत आजाद हुआ पर इसके 14 साल बाद तक पुर्तगालियों का यहां कब्जा था। आपको बता दें कि आज ही के दिन यानी 19 दिसंबर 1961 में पुर्तगालियों से आजाद हुआ था। ऐसे आजाद हुआ गोवा…

– 19 दिसम्बर, 1961 को भारतीय सेना ने ‘ऑपरेशन विजय अभियान’ शुरू कर गोवा, दमन और दीव को पुर्तगालियों के शासन से मुक्त कराया था। भारत सरकार के आदेश के बाद भारतीय सेना ने यहां ऑपरेशन शुरू किया था।

– पुर्तगाली सेना ने कुछ विरोध के बाद घुटने टेक दिए थे और पुर्तगाल के गर्वनर ने सरेंडर फॉर्म पर साइन कर गोवा छोड़ दिया था। इसके बाद से ही इसे Goa Liberation Day ‘गोवा मुक्ति दिवस’ के रूप में मनाया जाता है।

– माना जाता है कि 16वीं शताब्दी में पुर्तगाली यहां खोज के उद्देश्य से आए थे। जिसके बाद उनहोंने गोवा पर कब्जा कर लिया था। लगभग 450 साल तक पुर्तगालियों ने गोवा पर राज किया।

 

ऐसे बदला गोवा

– 1961 में पुर्तगालियों से आजादी के बाद गोवा को तेजी से विकास हुआ। देश-विदेश से यहां की सुंदरता देखने के लिए यहां लोग आने लगे जो निरंतर जारी है। गोवा भारत के सबसे ज्यादा विकसित राज्‍यों में से एक है। हालांकि, यहां के कल्चर आज भी पुर्तगाल के कल्चर की झलक देखने मिलती है।

READ  प्रद्युम्न मर्डर केस पर हरियाणा पुलिस ने दी सफाई, CBI की थ्योरी पर भी 8 सवाल

– गोवा की लगभग 60% जनसंख्या हिंदू और लगभग 28% जनसंख्या ईसाई है। ईसाई समाज के ज्यादा प्रभाव होने के बावजूद यहां लोग वास्तुशास्त्र को बहुत मानते हैं।

 

Related Post