ये हैं भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमान -Power of Indian Air Force

भारत को अपनी एयरफोर्स पर नाज़ है और हो भी क्यों ना, अमेरिका, रूस और चीन के बाद हमारी एयरफोर्स वर्ल्ड में चौथे नंबर पर जो है। जबकि पड़ोसी देश पाकिस्तान के एयरफोर्स की वर्ल्ड रैंकिंग 7वीं है। एयरफोर्स की ताकत की बात करें तो भारत पाकिस्तान से दोगुना ताकत रखती है। वक्त के साथ-साथ इंडियन एयरफोर्स और शक्तिशाली बन रही है। 2015 में 99 फीसदी इंडियन टेक्नोलॉजी से बने तेजस फाइटर जेट और आकाश मिसाइल को एयरफोर्स को सौंपा गया है। आज हम आपको बता रहे है एयरफोर्स के खास एयरक्राफ्ट और फाइटर प्लेन्स की खूबियां जो इंडियन एयरफोर्स की शान और जान है।

1.मिग-29

रूस में बना मिग-29 तो एयरफोर्स की शान है। 2445 kmph की रफतार से उड़ने वाला ये विमान अपने मिसाइल्स से दुश्मनों के छक्के छुड़ा सकता है। एयर सुपिरियॉरिटी फाइटर जेट है जो रडार कंट्रोल्ड मीडियम रेंज की मिसाइलों से दुश्मनों पर अटैक करता है।

2.सी-17 ग्लोबमास्टर

बोइंग ग्लोबमास्टर एयरफोर्स का सबसे बड़ा ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट है। इसमें उड़ान के दौरान भी फ्यूल भरा जा सकता है. बताते चलें कि इसी में भरकर इराक में फंसे भारतीयों को वापस लाया गया था। बोईंग सी-17 भारतीय वायुसेना को पहला भारी सैन्य साजो सामान ले जाने में सक्षम रणनीतिक परिवहन विमान है। यह विमान 70 टन का माल लेकर उड़ान भर सकता है। इसी विमान में वायुसेना ने यमन में फसें लोगो को भारत लाया गया था।

3.सुखोई-30

2500 किलोमीटर/घंटे की रफतार से उड़ने वाला सुखोई भारत का सबसे ताकतवर हथियार है। इसका निर्माण रूस में हुआ है। भारतीय वायुसेना के पास सुखोई एमकेआई-30 बड़ी ताकतों में एक है। इसे यूरोफाइटर टायफून, डसॉल्‍ट राफेल और अमेरिका के बेस्‍ट एफ सीरिज के फाइटर जेट्स की बराबरी मिली है। इस एयरक्राफ्ट मे अलग अलग तरह के बम तथा मिसाइल ले जाने के लिये 12 स्थान है। यह विमान हवा में ईन्धन भर सकता है। इसमें 3000 किमी की दूरी तक जा कर हमला करने की क्षमता है। 2500kmph की रफ्तार से उड़ान भर सकता है।

READ  आर्मी चीफ बिपिन रावत महिलाओं की भर्ती पर बड़ा बयान- जल्द ही निकलेगी आर्मी पुलिस में महिला भर्ती

4.तेजस

साल 2015 में ही 99% इंडियन टेक्नोलॉजी से बने तेजस फाइटर जेट और आकाश मिसाइल को एयरफोर्स को सौंपा गया है। तेजस भारत का स्वदेशी लड़ाकू विमान है। इसे हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स ने बनाया है जिसे साल 2015 में एयरफोर्स में शामिल किया गया।

5. सी-130 जे हरक्युलिस

सी-130 जे हरक्यूलिस ने भारतीय एयरफोर्स की ट्रांसपोर्टेशन क्षमता में इजाफा किया है। चीन से सटे दौलत बेग ओल्डी सेक्टर में इसे उतारकर भारत ने चीन को अपना दम दिखाया था।

6. जगुआर

1350किलोमीटर/घंटे की रफतार से उड़ने वाला फ्रेंच ओरिजिन का जगुआर कम ऊंचाई पर तो उड़ता ही है, ये दुश्मन की रडार से ओझल हो जाने में भी माहिर है।

7. MI-70 V5

एमआई-17 हेलिकॉप्टर मॉर्डन तकनीक से बना है और भारतीय एयरफोर्स के रेस्क्यू अभियान में ये बहुत काम आता है।

8. मिराज-2000

फ्रांस में ही बना मिराज-2000 भारत के लिए हवा में मार करने वाला एक और शानदार हथियार है। करगिल जीत में इसने अहम भूमिका निभाई थी। इसकी रफ्तार 2495kmph है। ये कई हथियारों और मिसाइलो से लैस होता है।

9. टाइगर मोथ

ये करिब 82 साल पुराना विमान अभी भी एयरफोर्स का हिस्सा है। जो कुछ खास मौको पर उड़ान भरता है। टाइरग मोथ को 1956 में एयरफोर्स से रिटायर कर दिया गया था। अब ये केवल नए पायलटो को प्रशिक्षण देने के काम आता है।

Related Post