कभी मुंबई में धोता था कार, आज टाइगर के साथ कई स्टार को देता है ट्रेनिंग

इन दिनों एक्टर टाइगर श्रॉफ अपने आगामी फिल्म बागी-2 की जोर-शोर से तैयारी कर रहे है। बताया जा रहा है कि टाइगर अपने पर्सनल डांस और जिमनास्टिफक ट्रेनर विक्रम सवाइन के साथ काफी वर्कआउट कर रहे है।

उनके ट्रेनर विक्रम कोई बिग शॉट शख्स नहीं, बल्कि ओडिशा के अंतारीगाम नाम के गांव से आते है। विक्रम प्रोफेशनल जिमनास्ट है और बागी के वक्त टाइगर को ट्रेनिंग उन्होंने ही दी थी। विक्रम ओडिशा के अंतारीगाम गांव के निवासी है लेकिन उनका बचपन एक अनाथालय में गुजरा है। आर्थिक स्थित के चलते विक्रम ने नौ वर्ष की उम्र में माली का काम करना शुरू कर दिया था। उस वक्त उन्हें केवल 400 रूपए मिलते थे। जिससे वो अपने तीन साल के भाई के लिए दूध और खाने की व्यवस्था करते थे।

इसके बाद वे कढ़ाई का काम सीखने और कमाई बढ़ाने के इरादे से सूरत आ गए और यहा वे 1300 रुपए में काम करने लगे। यहां पर मिलने वाली इस रकम में से विक्रम आधा हिस्सा खुद के पास रख लेते थे बाकि आधा अपने भाई को गांव में भेज देते थे। इसके बाद कुछ समय बाद नौकरी की तलाश में विक्रम 2009 में मुंबई आ गए और साउथ मुंबई में कार धोने का काम करने लगे।इस बीच विक्रम ने जुहू बीच पर कुछ बच्चों को जिम्नास्टिक करते देखा तो वो भी उनके साथ प्रैक्टिस करने लगे। समय के साथ वे जिमनास्ट में माहिर हो गए।

एक दिन जूहू बीच पर अपने प्रशिक्षण के दौरान ही उनकी पूरी दुनिया ही बदल गई। दरअसल यहां पर उन्हें टाइगर श्रॉफ ने देखा और उनकी स्किेल को देख कर दंग रह गए। वे उनके साथ अभ्यास करने लगे। उन दिनों टाइगर डेब्यू फिल्म् ‘हीरोपंती’ की शूटिंग कर रहे थे। कुछ दिन विक्रम के साथ अभ्यास करने के बाद टाइगर ने उन्हें अपने ट्रेनर की जॉब ऑफर की।

READ  4 तरह के होते हैं सपने, बुरा सपना आए तो क्या उपाय करना चाहिए?

विक्रम जॉब तो करने लगे पर उन्हें हिंदी और अंग्रेजी भाषा नहीं आती थी, मगर फिर भी टाइगर उनकी बात समझ लेते थे। टाइगर ने उन्हें एक मोबाइल और सिम भी लेकर दिया और जब तक वे भाषा सीख नहीं गए तब तक वो मैसेज के जरिए ट्रेनिंग का टाइम और जगह तय कर लेते थे। हालांकि धीरे-धीरे विक्रम ने भाषा सिख ली है।विक्रम ने अब अपने पैसो से गांव का घर बनवा लिया है उनके पिता भी अब उनके पास आ गए है।