100 बार इंटरव्यू में सच बोला नहीं मिली नौकरी, सच्च छुपाया तो मिल गयी जॉब

शनि धांडा की नौकरी हासिल करने की कहानी के बारे में जानकर आप हैरान रह जाएंगे। उनका दावा है कि उन्होंने 100 से ज्यादा बार इंटरव्यू दिए लेकिन उन्हें नौकरी नहीं मिली। इसकी वजह बन रही थी उनकी शारीरिक अक्षमता। धांडा( Shani Dhanda) ऑस्टेजेनिसिस इम्परफेक्ट की शिकार हैं। अपना रेज्युमे भेजते समय वह कवर लेटर पर इस बीमारी के बारे में जरूर लिखती थीं। इसी वजह से उन्हें किसी भी जॉब के लिए कॉल नहीं आता था। उन्हें इस बात का अहसास हुआ कि उनकी शारीरिक अक्षमता ही, उनकी नौकरी हासिल करने की कोशिशों में बड़ी अड़चन बन रही है। ऐसे में उन्होंने इसे छिपाने का फैसला किया और इसका उन्हें फायदा भी मिला।

Metro.co.uk से बातचीत में उन्होंने कहा, “3 फीट का कद होने के कारण मेरे पास पहले से ही मौके काफी कम थे। मैंने 100 से ज्यादा जॉब्स के लिए अप्लाई किया था। लेकिन मुझे जल्द ही अहसास हुआ कि मेरी डिस्बिल्टी की वजह से कोई कॉल नहीं आता। इसलिए मैंने फैसला किया कि मैं अपनी इस कमी को कवर लेटर पर से हटा दूंगी।” उन्होंने आगे कहा, “ऐसा करने के बाद ही मुझे इंटरव्यू में जाने का मौका मिला और मैं नौकरी पाने में कामयाब भी हुई। मेरी पहली नौकरी telesales में थी।”

धांडा आगे बताती हैं कि वह कभी भी खुद को दिव्यांग शख्सियत के रूप में नहीं देखना चाहती। वह चाहती हैं कि लोग उन्हें ऐसी शख्सियत के रूप में देखें जिसके कुछ लक्ष्य होते हैं और उसमें हुनर भी है। वह कहती है, “जब आप किसी अक्षमता के साथ जीते हैं तो यह अपने आप में ही एक फुल-टाइम जॉब बन जाती है। यह आपको काफी कुछ सिखाती है। मैंने एक ऐसी दुनिया में रहना सीखा है जो मेरे लिए नहीं बनी।” धांडा का कहना है कि उन्होंने जीवन को लेकर हमेशा सकाराक्मक बने रहने की कोशिश की है लेकिन किसी असमर्थता के कारण पोजिशन न मिलना काफी दुखद होता है।

READ  Camera और Photography से जुड़े ये Interesting Facts जानिये

Related Post