जब 5 साल की उम्र में मां बन गई ये लड़की, जानिए पूरी कहानी

लीना मदीना, (जन्म: 27 सितम्बर 1933, तिक्रापो, हुआंकावेलिका क्षेत्र, पेरू), आयुर्विज्ञान के इतिहास में दर्ज सबसे कम उम्र की माँ हैं, जिन्होने पाँच साल, सात महीने और 17 दिन की आयु में एक पुत्र को जन्म दिया था। लीना मदीना आजकल पेरू की राजधानी लीमा में रहती हैं।

गर्भावस्था

तिक्रापो, पेरू में लीना का जन्म एक सुनार, टिबुरेलो मदीना और विक्टोरिया लोसिया के यहाँ हुआ था। लीना जब पाँच साल की थी तब उसके माता पिता उसके पेट के बढ़ते आकार से चिंतित हो उसे उस समय पर स्थानीय मान्यताओं के अनुसार, एक स्थानीय ओझा के पास परामर्श लेने के लिए ले गये। ओझा के अनुसार लीना के पेट में एक सर्प था जो कि शैतान का प्रतीक था और उसका अंत करने के लिए उसका बाहर आना बहुत जरूरी था। इस समस्या के निवारण के लिए इंका परंपराओं से विरासत में मिले कई एंडियन अनुष्ठान किए गये लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।

हताश पिता उसे किसी चिकित्सक को दिखाने पास के पिस्को शहर के एक अस्पताल ले गया। शुरु ने सभी ने यही सोचा कि उसके पेट में रसौली थी, लेकिन डॉक्टर उसके परीक्षण के बाद इस निष्कर्ष पर पहुँचे कि वो सात माह की गर्भवती थी। डॉ॰ जेरार्दो लोज़ादा लीना की गर्भावस्था की पुष्टि के लिए उसे अन्य विशेषज्ञों को दिखाने, लीमा ले गये।

प्रथम नैदानिक परीक्षण के डेढ़ महीने बाद 14 मई 1939 को, मदीना ने सीज़ेरियन शल्यक्रिया के द्वारा एक लड़के को जन्म दिया, सामान्य प्रसूति उसकी श्रोणि के छोटे आकार के कारण संभव नहीं थी। शल्यक्रिया डॉ॰ लोज़ादा और डॉ॰ बुसालिऊ द्वारा की गयी थी जबकि निष्चेतक डॉ॰ कोलारेता द्वारा प्रदान किया गया था। लीना का मामला विस्तार से डॉ॰ एडमुण्डो एस्कोमेल द्वारा मेडिकल जर्नल ला प्रेसी मेडिकाल (स्पैनिश: La Presse Médicale) में रिपोर्ट किया गया था जिसमें यह भी जानकारी दी गयी थी कि लीना सिर्फ आठ माह की उम्र में ही रजस्वला हो गयी थी (एक अन्य लेख के अनुसार यह आयु ढाई वर्ष थी) और चार साल की उम्र तक उसके स्तनों का विकास पूर्ण हो चुका था।पांच साल की उम्र तक उसकी श्रोणि का चौड़ी होना और अस्थि परिपक्वण भी काफी हद तक हो चुका था। शल्यक्रिया के दौरान डॉक्टरों ने पाया कि अकालिक यौवनारंभ के कारण उसके प्रजनन अंगों का विकास पूर्ण हो चुका था।

READ  अगर रात को सपने में दिखी है इस रूप मे महिला तो इस का मतलब है की होंगे ये लाभ !

लीना का बेटा

लीना के बेटे का नाम, डॉ॰ जेरार्दो के नाम पर जेरार्दो रखा गया। जन्म के समय जेरार्दो का वजन 2.7 किलो था। बचपन में जेरार्दो की परवरिश लीना के एक भाई के रूप में की गयी थी, लेकिन जब वो 10 साल का हुआ तो उसे इस बात का पता चला कि मदीना उसकी माँ थी। 1979 में जेरार्दो की 40 साल की उम्र में एक अस्थि मज्जा रोग के कारण मृत्यु हो गई।

बाद का जीवन

लीना ने कभी भी अपने बच्चे के पिता का नाम और उन परिस्थितियों जिनमें वो गर्भवती हुई का खुलासा नहीं किया। डॉ॰ एस्कोमेल के अनुसार खुद लीना को भी यह बातें ठीक से पता नहीं थीं।डॉ॰ जेरार्दो ने लीना की गर्भावस्था का पता चलने पर पुलिस को सूचित किया और लीना के पिता को बलात्कार और अनाचार के संदेह पर गिरफ्तार किया गया, लेकिन बाद में सबूतों के अभाव में उसे रिहा कर दिया गया। उसके बाद उसके 11 वर्षीय मंदबुद्धि भाई को भी गिरफ्तार किया गया पर उसे भी सबूतों के अभाव में रिहा कर दिया गया। मामले की समीक्षा में छपे एक 1955 लेख के अनुसार, “कुछ एंडियन गांवों में जिनमे से लीना का गांव भी एक था अक्सर उत्सव मनाये जाते थे और इन उत्सवों के अंत में सामूहिक तौर पर यौन संबंध बनाये जाते थे और इस दौरान बहुत सी लड़कियों के साथ बलात्कार भी किया जाता था, लेकिन यह सिद्धांत भी इस बात का स्पष्टीकरण देने में असमर्थ है कि कैसे एक पाँच साल की लड़की ने गर्भ धारण कर लिया, जो आज तक नहीं हुआ था।

READ  भारत की विदेशी कॉलोनियां जो देंगी आपको पूरा विदेशी टच जरूर घूमें

युवावस्था में, लीना ने डॉ॰ लोज़ादा के लीमा में स्थित क्लिनिक में एक सचिव के रूप में काम किया, जिन्होने उसे और उसके बेटे को शिक्षा प्राप्त करने में मदद की। बाद में लीना ने राउल जुरादो से विवाह किया जो 1972 में जन्मे उसके दूसरे बेटे का पिता बना। 2002 तक यह दंपत्ति लीमा की एक गरीब बस्ती “शिकागो चिको” (“छोटी शिकागो”) में रहते थे।2002 में लीना ने रायटर्स को साक्षात्कार देने से इनकार कर दिया,ठीक उसी तरह जैसा उसने पिछले कई सालों के दौरान अन्य कई संवाददाताओं को किया था।