महादेव के परकोप से बचना है तो कभी भी ना करे ये अपराध !

आप लोगो को तो पता ही होगा की तीन देवो को ब्रम्हा, विष्णु, महेश के अलावा इन्हें त्रिदेव भी कहा जाता है. इनमे से महेश अथवा भगवान भोलेनाथ की पूजा करने से भगवान भोलेनाथ जल्दी प्रसन्न हो जाते है. लेकिन अगर कोई बुरे काम करता है तो ये उतनी जल्दी उस पर गुस्सा भी हो जाते है और परिणाम स्वरुप उसे दंड भी देते है. इसलिए अगर आप भोलेनाथ के गुस्से से बचना चाहते है तो ये पाप करने से बचे.

अगर मन में किसी के प्रति कोई दुर्भावना है या आपने किसी का अहित सोचा हो तो यह भी पाप कहलाता है. जो व्यक्ति दूसरे के पति या पत्नी पर बुरी नज़र रखता है या उसे पाने की कोशिश करता है तो यह भी पाप कहलाता है. जो भी व्यक्ति दूसरे के धन को जबरजस्ती अपना बनाना चाहता हो तो यह अक्षम्य अपराध है.

किसी भी व्यक्ति को बेवजह कष्ट देना या उसे किसी प्रकार का नुकसान पहुँचाना या पहुंचाने की कोशिश करना, या फिर किसी के कार्य में बेवजह बाधाएं उत्पन्न करना बहुत बड़ा अपराध है. अगर कोई भूलकर भी किसी गलत राह पर या फिर किसी मजबूरी में भी गलत काम करता है तो यह भी अपराध कहलाता है.

बोली के द्वारा अपराध:- शराब पीकर उपद्रव मचाना या अपनी घर की स्त्रियों को बेवजह मारना प्रताड़ित करना अपराध कहलाता है. अगर आपने गुरु, माता-पिता, पत्नी या पूर्वजों का अपमान किया है तो यह भी भगवान का अपमान करने के बराबर है. कृपया इनका अपमान करने से बचे. बच्चों, महिलाओं या किसी भी कमजोर जीव के खिलाफ हिंसा और असामाजिक कार्यों में बहकाना मनुष्य को पाप का दोषी बनाता है.

READ  ये बहुत ही विचित्र 'मन्दिर है जहाँ "कैश नही कार्ड" से दान लिया जाता है !

किसी गर्भवती महिला या मासिक के दौरान किसी महिला को कटु वचन कहना या अपनी बातों से उनका दिल दुखाना शिव की नजरों में अक्षम्य अपराध है.

Related Post