जब तक किसी घर में इस तरह के वास्तु दोष ना हो कोई भी गेम हमारा कुछ नही बिगाड़ सकता।

डॉ. मोहित बीजाका – खंडेला Research Health Analyst बी-644 मुरलीपुरा स्कीम , जयपुर-302039

ग्रह स्थिति नक्षत्र और भाग्य जब साथ देते हैं तो ही व्यक्ति सही वास्तु में निवास कर सकता है।
जिसके ग्रह या नक्षत्र अशुभ हो ऐसे व्यक्ति वास्तु को नही मानते और अगर मानते भी हो तो दोष दुर नही कर पाते और अगर दोष दुर भी करना चाहें तो सही राय देने वाला उनको नही मिलता।
कांग्रेस पार्टी चाहे तो सिर्फ अपना वास्तु सही करके फिर से बीजेपी से भी मज़बूत पार्टी बन सकती है पर इनके नेताओ की क़िस्मत ख़राब है इसलिए ये वास्तु शास्त्र को बजाए मानने के इसका मजाक बनाते हैं।

घर का नैक्षत्य कोण ( दक्षिण -पश्चिम ) ऊँचा व भारी रहना चाहिए, इस दिशा में भुभिगत पानी का टैंक, बोंरिग, बेसमेंट, सैप्टिक टैंक, शौचालय, नीचा फ़र्श या किसी भी प्रकार का खड्डा या विस्तार हो तो ऐसे घर में रहने से व्यक्ति के जीवन पर संकट के बादल मँडराते रहते है।

ईशान कोण ऊँचा ,भारी या कटा हुआ हो, वायव्य कोण दुषित हो साथ ही पश्चिम दिशा पुर्व से नीची या ज़्यादा खुली हो तो संतान की उन्नति नही होती
डिप्रेशन,असाध्य रोग या दुर्घटना अकाल मृत्यु का कारण बनते हैं।

डॉ. मोहित बीजाका – खंडेला Research Health Analyst बी-644 मुरलीपुरा स्कीम , जयपुर-302039

Related Post

READ  घर में ऐसे दस्तक देगा सौभाग्य, तुरंत आजमाएं