1993 मुंबई धमाके: 24 साल बाद मिली दोषियों को सजा 2 को फांसी,3 को उम्र कैद |

देश के इतिहास में पहली बार इस तरह के सीरियल बम ब्‍लास्‍ट हुए. धमाके के लिए आरडीएक्‍स का इस्‍तेमाल हुआ

मुंबई: 12 मार्च, 1993 को दोपहर के बाद मुंबई के कई इलाकों में एक के एक बाद एक सीरियल बम धमाके हुए. कुल मिलाकर उस रोज 13 बम धमाके हुए. इनमें 257 लोग मारे गए और 700 से ज्‍यादा लोग घायल हुए. कहा जाता है कि देश के इतिहास में पहली बार इस तरह के सीरियल बम ब्‍लास्‍ट हुए. धमाके के लिए आरडीएक्‍स का इस्‍तेमाल हुआ. कहा जाता है कि तबाही मचाने के लिए तीन हजार किलो से भी ज्‍यादा आरडीएक्‍स मुंबई में समुद्र के किनारे उतारा गया था, जबकि इनमें से सिर्फ 10 फीसदी ही इस्‍तेमाल हुआ था. अब 24 साल बाद एक अहम फैसले में मुंबई की विशेष टाडा कोर्ट ने अबू सलेम समेत छह दोषियों को सजा सुनाई है.

इसके तहत ताहिर मर्चेंट और फिरोज खान को फांसी की सजा सुनाई गई. वहीं अबू सलेम और करीमुल्‍ला शेख को उम्रकैद दी गई. इसके अलावा रियाज सिद्दीकी को 10 साल की सजा सुनाई गई. अदालत ने सलेम और करीमुल्‍ला पर दो-दो लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है. इससे पहले कोर्ट इसी छह जून को अंडरवर्ल्‍ड डॉन अबू सलेम समेत छह दोषियों को दोषी ठहरा चुकी थी. उसके बाद इनमें से एक मोहम्‍मद दौसा की जेल में दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई. लिहाजा अबू सलेम समेत छह दोषियों को सजा सुनाई जाएगी. इन विस्‍फोटों में 257 लोग मारे गए थे और सैकड़ों जख्‍मी हुए थे. ऐसे में इन छह दोषियों पर लगे आरोपों की फेहरिस्‍त पर एक नजर:

READ  अब IDBI बैंक में सामने आया 772 करोड़ रुपये का फर्जीवाड़ा

मुस्‍तफा दौसा

मुस्‍तफा पर बम धमाकों के लिए गोला-बारूद और विस्‍फोटक सामग्री मुंबई में समुद्र के किनारे उतारने के सबसे गंभीर आरोप लगे थे. कहा जाता है कि इन धमाकों के लिए तीन हजार किलो से भी ज्‍यादा आरडीएक्‍स उतारा गया था, जबकि सिर्फ 10 फीसदी ही इस्‍तेमाल हुआ था. 2003 में दौसा को दुबई से प्रत्यर्पित किया गया था. इस साल जेल में उसकी मौत हो गई.

अबू सलेम

संजय दत्‍त को एके-47 जैसे असलहे देने का आरोप. इसके अलावा विस्‍फोटक सामग्री और हथियारों को एक जगह से दूसरी जगह पहुंचाने के आरोप. 2005 में पुर्तगाल से प्रत्‍यर्पित कर भारत लाया गया.

फिरोज अब्‍दुल राशिद खान और करीमुल्‍लाह खान

फिरोज को मुस्‍तफा दौसा का बेहद करीबी माना जाता था. पुलिस के मुताबिक इस पर धमाकों का सामान एक जगह से दूसरे जगह पहुंचाने का आरोप. करीमुल्‍लाह पर भी यही आरोप हैं.

ताहिर मर्चेंट

इस पर आरडीएक्‍स और हथियारों के इस्‍तेमाल के प्रशिक्षण के लिए कई आरोपियों को ट्रेनिंग के लिए पाकिस्‍तान भेजने का आरोप.

रियाज़ सिद्दीकी

इस पर यह आरोप था कि यह RDX से भरी मारुति वैन चलाकर गुजरात के भरूच तक ले गया और वहां गाड़ी अबू सलेम के हवाले कर दी.