ये ऐसे रहस्य है जिन पर विज्ञानं को आज भी शोध करना चाइये !

भारत की गिनती विश्व में सबसे रहस्यमय देशों में से एक में की जाती है। प्राचीन काल में यह ज्ञान-विज्ञान का महत्वपूर्ण केंद्र था। इसके अलावा, दुनियाभर के लोग भारत में तंत्र-मंत्र को देखने व जानने के लिए खींचे चले आते थे। यह सिलसिला आज तक बरकरार है। हालांकि, समय के साथ-साथ दुनिया का नजरिया भारत के प्रति बदला है औऱ वे अब इसे तंत्र-मंत्र का देश नहीं, बल्कि तेजी से विकसित होती अर्थव्यवस्था में से एक मानने लगे हैं। आइए आज हम आपको ऐसे ही कुछ अविश्वसनीय तथ्यों से अवगत करा रहे हैं…

1 –लद्दाख का द कोंग्का ला दर्रा

निया के उन इलाकों में है, जिसके बारे में बहुत कम जानकारी मिल पाई है। इसके पीछे सबसे बड़ा कारण हिमालय क्षेत्र में होना है। यह भारत और चीन की सीमा पर पड़ता है। यह दोनों देशों के बीच सैन्य-विवाद का विषय बन चुका है। यह नो-मैन्स लैंड घोषित है। दोनों देश इस पर नजर रखते हैं, लेकिन कोई भी देश इस क्षेत्र में पेट्रॉलिंग नहीं करता है। स्थानीय निवासियों और यात्रियों का दावा है कि यूएफओ यानी उड़न तश्तरी का देखा जाना इस क्षेत्र में आम बात है। भारत और चीन दोनों ही देश को इस संबंध में जानकारी है और वे एक-दूसरे से सूचनाएं प्रदान करती है। यहां तक कि गूगल अर्थ ने भी इस तरह की घटनाओं का जिक्र किया है।

2- जुड़वा बच्चों का गांव:

केरल का कोडिन्ही ऐसा ही एक गांव है। यहां जुड़वां बच्चों का जन्म होना आम बात है। इस गांव में लगभग 2,000 परिवार रहते हैं और सरकारी आंकड़ों के अनुसार इस गांव में 250 जुड़वां बच्चे हैं। विशेषज्ञों के अनुसार, इस एरिया में 350 से अधिक जुड़वां बच्चे हैं। प्रति वर्ष जुड़वां बच्चों की संख्या में वृद्धि होती जा रही है। इसके पीछे के कारणों को अभी तक कोई नहीं जान सका है। भारत में जुड़वां बच्चों का जन्म एक दुर्लभ बात होती है। एक अनुमान के अनुसार, भारत में, प्रति 1000 बच्चों में 4 जुड़वां बच्चे होते हैं। कोडिन्ही में 1000 पर यह आंकड़ा 45 है।

READ  जानिये ! अधिकतर हवाई जहाज का रंग सफेद ही क्यों होता है ?

3-ताजमहल :


यह ऐतिहासिक वास्तु स्थापत्य और अपनी खूबसूरती के लिए संपूर्ण दुनिया में जाना जाता है। यह विश्व के सात अजूबों में से एक है। ताजमहल का निर्माण उजले मार्बल से हुआ है। इसका निर्माण मुगल शासक शाहजहां ने अपनी पत्नी मुमताज बेगम की याद में कराया था।

4-कुलधारा :

500 वर्षों से अधिक समय से कुलधारा में 1,500 परिवार रहा करते थे। एक रात वे सभी गायब हो गए। वे न तो मरे और न ही उनका अपहरण किया गया था, उन लोगों ने गांव छोड़ा था। इसके पीछे की क्या कारण थे, इसकी जानकारी नहीं मिल सकी। लोग तमाम तरह के किस्से-कहानियां सुनाते हैं। पौराणिक कथाओं के अनुसार बाद में, कुछ लोगों ने इस गांव पर अपना अधिकार करने की चेष्टा की लेकिन वे सारे लोग मारे गए।

5-हिमालय :

हिमालय के नजदीक लद्दाख में एक बहुत ही आश्चर्यचकित करने वाला पहाड़ी है। इसके बारे में कहा जाता है कि यह चुंबकीय गुणों से युक्त है। अगर आप अपनी कार को सड़क किनारे पार्क करते हैं तो यह पहाड़ी की चोटी पर पहुंचकर न्यूट्रल हो जाता है। यह 20 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से नीचे की ओर अपने आप चलता चला जाता है। गाइड के अनुसार यह एक सुपरनेचुरल घटना है और इसे स्थानीय लोग हिमालयन वंडर कहते हैं।

कई पौराणिक कथाओं में पर्वतों को देवों का प्राकृतिक निवास माना जाता है। इस बात में कोई आश्चर्य नहीं कि हिमालय पर्वत श्रृंखला का स्थान सभी पर्वतों से अलग है। यहां प्राचीन काल से साधु-संत कठिन तपस्या करते रहे हैं।

6-भूतबिल्ली औऱ घोस्ट कैट :

एक रहस्यमयी मॉन्सटर है। इसके बारे मे भारत के कई हिस्सों विशेषकर पुणे के निवासियों के बीच कई तरह की कहानियां प्रचलित है। स्थानीय लोगों का मानना है कि एक अजीब तरह का जीव है जो कभी बिल्ली तो कभी कुत्ता तो कभी और नेवला का वेष बदल लेता है। एक प्रत्य़दर्शी के अनुसार यह काफी मोटा-चौड़ा औऱ लंबे पूंछ वाला जीव है। इसका रंग काला है तथा चेहरा कुत्ता की तरह और पीठ नेवला की तरह है। यह लंबा जंप करने में सक्षम है। अगर कोई पकड़ने की कोशिश करता है तो यह छलांग लगाकर पेड़ पर पहुंच जाता है।

READ  सूरत का ये मेहमान बना सबसे छोटा दानदाता , बचा ली नन्ही कली की जान |

7- शांति देवी :


शांति देवी का जन्म 1930 में एक खुशहाल परिवार में दिल्ली में हुआ था। हालांकि, वह ज्यादा समय तक खुश नहीं रह सकी। जब वह चार साल की थी तब से जिद्द करने लगी कि उसके माता-पिता कोई और हैं। उसने दावा किया कि एक बच्चे को जन्म देते समय उसकी मृत्यु हो गई थी और अपने पति तथा परिवारजनों के बारे में काफी जानकारियां दी थी। शांति देवी के पिता ने उसके दावों के बारे में जब पता किया तो वे सारे वे सच निकले। एक युवा महिला जिसका नाम लुडगी देवी था की मौत बच्चे को जन्म देते समय हो गई थी। उन्हें और ज्यादा आश्चर्य तो तब हुआ जब उन्हें शांति देवी ने समय और शहर एकदम सटीक बताया था। जब वह अपने पूर्वजन्म के पति से मिली तो उसने उसे पहचान लिया और अपने बच्चे को उसकी मां की तरह प्यार करने लगी। इसके अलावा कई ऐसी बातें हुई जिसे सैकड़ों वैज्ञानिकों औऱ स्कॉलरों द्वारा कभी गलत साबित नहीं किया जा सका

8- सुंदरवन का जंगल :


जंगल तो भारत में बहुत सारे हैं लेकिन सुंदरवन का जंगल अपने भीतर कई तरह के रहस्यों को समेटे हुए हैं। सबसे सुंदर और भयानक जंगल होने के कारण यहां भारत के कई ऋषि-मुनियों ने घोर तप किया है। इस जंगल में घूमने से जो सुकून, शांति, रहस्य और रोमांच का अनुभव होता है, वह किसी अन्य जंगल में नहीं। कहते हैं कि इन जंगलों में बड़ी तादाद में भूत निवास करते हैं।

सुंदरवन राष्ट्रीय अभयारण्य पश्चिम बंगाल (भारत) में खानपान जिले में स्थित है। इसकी सीमा बांग्लादेश के अंदर तक है। सुंदरवन भारत के 14 बायोस्फीयर रिजर्व में से एक बाघ संरक्षित क्षेत्र है। इस उद्यान को भी विश्‍व धरोहर में शामिल किया गया है। कई दुर्लभ और प्रसिद्ध वनस्पतियों और बंगाल टाइगर सहित दुर्लभ प्राणियों के लिए प्रसिद्ध इस जंगल में पक्षियों की अनगिनत प्रजातियां निवास करती हैं

READ  जलियाँ वाला बाग हत्याकांड जिसकी कुछ अनसुनी बातें, जानिए "हकीकत "क्या हुआ था उस दिन |

9-तीर्थराज पुष्कर :

राजस्थान का रेगिस्तान अपने आप में एक रहस्य है। राजस्थान के बीच में से ही सरस्वती नदी बहती थी और यहां पर ही दुनिया की सबसे प्राचीन सभ्यता रहती थी। आज भी सरस्वती की सभ्यता खोजी जाना बाकी है। कहा जाता है कि सरस्वती नदी के तट पर ही बैठकर ऋषियों ने वेद और स्मृति ग्रंथ लिखे थे।

पुष्कर राजस्थान के लगभग बीचोबीच स्थित है। पुष्कर में ब्रह्माजी के एकमात्र मंदिर है। तीर्थ तो बहुत हैं लेकिन पुष्कर एक तीर्थस्थल है इसलिए इसका जिक्र नहीं किया जा रहा। पुष्कर उस प्राचीन सभ्यता का केंद्र है, जो कभी 4,000 वर्ष पूर्व अर्थात महाभारतकाल तक अस्तित्व में थी।
भारत में झीलें बहुत हैं, जैसे महाराष्ट्र में लोणार की झील, जयपुर और उदयपुर की झीलें लेकिन पुष्कर में स्थित झील का महत्व कुछ और ही है। इस रहस्यमय झील और आसपास के क्षेत्र पर शोध किए जाने की आवश्यकता है। अजमेर से मात्र 14 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है तीर्थस्थल पुष्कर।