जानिये दशक भर तक राज करने वाले फ़ोन के सबसे बड़े ब्रांड NOKIA की कहानी ?

Nokia history की बात करें तो दुनिया में मोबाइल फ़ोन के business पर लम्बे समय तक राज करने वाली कम्पनी , हम इसे कह सकते है क्योंकि एक समय था जब फोन के मामले में नोकिया से बेहतर कोई नहीं था | यह उन तरह की कंपनीज में से मानी जाती है जो लोगो को कनेक्ट करने या business करने से अधिक दुनिया को बदल देने वाली होती है | तो चलिए नोकिया के इतिहास के बारे में कुछ बात करते है –

हालाँकि Nokia के माइक्रोसॉफ्ट के द्वारा खरीद लेने के बाद जैसे एक युग का अंत हो गया हो लेकिन फिर भी हम कह सकते है नोकिया ने फ़ोन और टेक्नोलॉजी की दुनिया में एक नया बदलाव ला दिया और 1990 का दशक नोकिया के नाम ही रहा है | Nokia history की शुरुआत फ़िनलैंड में 1965 में हुई और इसका शुरू में नाम था Nordic Mobile Telephone यानि के NMT और इसने अपना पहला मोबाइल इंटरनेशनल मोबाइल नेटवर्क 1981 में बनाया जो कि मोबाइल टेलीफोनी के मामले में मोबाइल युग की शुरुआत थी | Nokia DX200 जो कि उनका पहला डिजिटल मोबाइल स्विच था उसे उन्होंने अगले साल में शुरू कर दिया | लेकिन असली पहचान नोकिया को उसके फ़ोन बनाने को लेकर मिली जो 1987 में उन्होंने Mobira talkman नाम के पोर्टेबल फ़ोन को बनाया और उसके बाद 1991 में उन्होंने Mobira Cityman नाम के फ़ोन को बनाया जो पहला handheld फ़ोन था और तब GSM टेक्नोलॉजी की शुरुआत हुई ही थी |

उसके बाद GSM टेक्नोलॉजी पर आधारित उनका पहला फ़ोन Nokia 1101, 1992 में लांच हुआ जिसने आते ही Jio की तरह मार्किट को हिलाकर रख दिया था | अगर नोकिया की रिंगटोन की बात करें तो Nokia की 2100 सीरीज जो थी वो पहली ऐसी phone series थी जिसमे नोकिया की signature ringtone थी | 1998 के समय में नोकिया दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल कंपनीज बन गयी जिसका मुकाबला करना ऑलमोस्ट किसी भी कम्पनी के लिए सम्भव नहीं था | फ़ोन के अनुभव को बेहतर बनाने के लिए रिसर्च होती रही और 1999 के साल में पहला हैंडसेट ऐसा आया जिसमे WAP की फैसिलिटी थी | Nokia 7100 और 6650 ऐसे पहले फ़ोन थे nokia के जिसमे 3G की सुविधा थी और ये 2002 में लांच किये गये | 2003 में गेमिंग के लिए नोकिया का N-Gage मोबाइल यूथ में बड़ी जल्दी पोपुलर हो गया |

READ  वेबसाइट्स कर सकती है आपकी आवाज और वीडियो रिकॉर्ड, आपको पता भी नहीं चलेगा

एक Snake Game है जिसे आपने बचपन में या बड़े होते हुए जरुर खेला होगा वो भी nokia की देन है जो 1997 में कम्पनी ने लांच किया और यह दुनियाभर में बेहद पसंद किया गया | नोकिया ने अपने 2100 series की करीब 200 लाख यूनिट्स बेचीं थी | हालाँकि दशक भर के राज के बाद नोकिया ब्रांड की मुश्किलें बढ़ने लग गयी थी और 2007 में कम्पनी के लिए चीजे मुश्किल होने लग गयी और 2009 में कम्पनी ने अब तक का सबसे बड़ा व्यापार घाटा प्रदर्शित किया | ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि इस समय HTC कम्पनी एंड्राइड पर आधारित स्मार्टफोन डेवलप कर रही थी साथ ही Apple का iphone और आने वाले एंड्राइड हैंडसेटस ने कम्पनी के लिए खड़ा रहना मुश्किल कर दिया था क्योंकि android phone जल्दी ही मार्किट में जगह बनाने लगे थे | कम्पनी में मार्किट में रहने के लिए एंड्राइड की जगह माइक्रोसॉफ्ट से हाथ मिला लिया और माइक्रोसॉफ्ट आधारित लुमिया फ़ोन को मार्किट में उतारा जो विंडोज प्लेटफार्म OS का इस्तेमाल करते थे और यह फ़ोन भी बहुत पॉपुलर हुआ लेकिन बीते दिनों की छवि को nokia नहीं लौटा पाया |

सितम्बर 3 ,2013 को नोकिया ने announce किया कि नोकिया का हार्डवेयर डिपार्टमेंट माइक्रोसॉफ्ट को दिया जा रहा है जो डील आठ महीने बाद $7.2 बिलियन में पूरी भी हो गयी और इसी के साथ एक युग का यही अंत हो गया |