क्या आप को लगता है घर में डर तो ऐसे जानिए कही आप के घर भूत या आत्मा तो नहीं

आत्मा, भूत क्या वाकई होते हैं ये आज भी एक रहस्य है। पिछले दिनों पैरानॉर्मल एक्टिविटीज पर रिसर्च कर रहे गौरव की रहस्यमय परिस्थितियों में हुई मौत से इस पर बहस शुरू हो गई है। हम उन साइन के बारे में बताने जा  रहे  है, जिसके आधार पर घर के हॉन्टेड होने न होने का दावा किया जाता है।

– बता दें कि दिल्ली में कई पैरानॉर्मल सोसाइटी काम कर रही हैं, जिनकी विदेशों में भी डिमांड है। ये सभी सोसाइटी रजिस्टर्ड हैं और कइयों को विदेश में सर्टिफाइड भी किया है।

– इन सोसाइटीज के मुताबिक, ऐसा बहुत कम होता है कि किसी का घर या रूम हॉन्टेड हो।

– अगर घर में पैरानॉर्मल एक्टिविटी के संकेत एक-दो बार दिखें तो समझ लें कि ये आपका वहम है। हालांकि यदि बार-बार ये दिखे तो आप सचेत हो जाएं।

 पैरानॉर्मल सोसाइटी ऐसे करती है काम

 – पैरानॉर्मल सोसाइटी के मुताबिक बहुत से लोगों को घर में निगेटिव एनर्जी का वहम हो जाता है। ऐसे में सोसाइटी फोन में गाइड करती है।

– इसके अलावा छोटे-छोटे एक्सपेरिमेंट करके उसका रिजल्ट बताने के लिए कहती है। इन रिजल्ट से ही साफ हो जाता है कि घर पर कोई निगेटिव एनर्जी है की नहीं।
– सोसाइटी पीड़ित व्यक्ति को साइंटिफिक प्रूफ भी दती है कि उसका घर पूरी तरह से सेफ है।

– अगर इसके बाद भी किसी तरह की निगेटिव एनर्जी है तो उसके लिए उनका पैरानॉर्मल इनवेस्टिगेटिव ऑपरेशन चलता है।

पीड़ित से कराया जाता है साइन

 – इंडियन पैरानॉर्मल सोसाइटी के मुताबिक किसी भी प्रोजेक्ट पर काम करने से पहले पीड़ित व्यक्ति से दो लेटर में साइन लिए जाते हैं।

– इनमें से पहला लेटर एनओसी होता है और दूसरे लेटर में लिखा होता है कि पैरानॉर्मल सोसाइटी को उसने इनवाइट किया है। सोसाइटी अपनी मर्जी से नहीं आई है।
– यदि घर का कोई भी मेंबर पैरानॉर्मल सोसाइटी का विरोध करता है तो वह काम बंद कर देते हैं।

कैसे हुई थी गौरव की मौत

– पैरानॉर्मल रिसर्चर गौरव तिवारी दिल्ली के द्वारका के सेक्टर 19 में अपनी फैमिली के साथ एक फ्लैट में रहते थे। सात जुलाई को वे अपने फ्लैट के बाथरूम में रहस्यमय हालत में मृत पाए गए थे।

– उनकी मौत को पैरानॉर्मल शक्तियों से भी जोड़कर देखा जा रहा है। गौरव करीब 5 साल पहले अपनी टीम को लेकर राजस्थान के भानगढ़ में रिसर्च करने पहुंचे थे।
– इस दौरान वे भूतों पर रिसर्च करने वाले सभी इक्विपमेंट लेकर यहां आए थे। भानगढ़ पहुंचकर गौरव ने यहां भूतों से बात करने की भी कोशिश की थी।
– पूरी रात रिसर्च करते हुए उन्होंने भूतों से सवाल पूछने की कोशिश की, उनके सवाल थे – क्या राजकुमारी रत्नावती यहां रहती है?
– इसके साथ ही उन्होंने सिंधिया नाम के एक तांत्रिक के बारे में भी सवाल किया था। उन्होंने पूछा था, क्या तांत्रिक सिंधिया यहां रहता है?
– रात भर किले के हर कोने में ऐसे सवाल करने के बावजूद गौरव और उसकी टीम को किसी तरह की भूतिया शक्ति का अहसास नहीं हुआ और ना ही उनके सवालों के जवाब मिले।

  

READ  Google Doodle Ustad Bismillah Khan: मशहूर शहनाई वादक उस्ताद बिस्मिल्लाह खान की आज(21 मार्च) को 102 वीं जयंती है