महाराष्ट्र के विश्व प्रसिद्ध अष्टविनायक जहाँ गणपति जी स्वयं प्रकट हुए थे

वक्रतुण्ड महाकाय​ सूर्यकोटि समप्रभ​।

निर्विघ्नम् कुरु मे देव​ सर्व कार्येषु सर्वदा॥

ashtavinayak

 

गणेश जी हिन्दू धर्मावलम्बियों के लिए प्रथम पूजनीय भगवान माने जाते है. गणेश जी को रिद्धि सिद्धि और बुद्धि का देवता माना जाता है.

धर्म ग्रंथों के अनुसार गणेश भगवान् शिव जी और पार्वती जी के पुत्र है.

पूरे भारत में गणेश पूजन हर शुभ कार्य से पहले किया जाता है. गणेश चतुर्थी के दिन गणेश जी की विशेष पूजा अर्चना की जाती है. महाराष्ट्र का सबसे बड़ा उत्सव गणपति उत्सव होता है. गणेश चतुर्थी के दिन शुरू होने वाला ये उत्सव 10 दिन तक चलता है. उत्सव के आखिरी दिन गणपति विसर्जन किया जाता है.

महाराष्ट्र की संस्कृति में गणपति जी का विशेष स्थान है. भारत के सबसे प्रसिद्ध गणेश मंदिर महाराष्ट्र में स्थित है.

जिस प्रकार भगवान् शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों का विशेष महत्व है वैसे ही गणपति उपासना के लिए महाराष्ट्र के अष्टविनायक जी का विशेष महत्व है.

महाराष्ट्र में गणेश जी के 8 सबसे प्रसिद्ध मंदिर है इन मंदिरों को ही सयुंक्त रूप से अष्टविनायक कहा जाता है.

ये अष्टविनायक मुंबई और पुणे के आसपास अलग अलग मंदिरों में स्थित है. हर मंदिर की अपनी अपनी कहानी है. अष्टविनायक की यात्रा करने के कुछ विशेष नियम भी है जैसे इस यात्रा का एक क्रम है इन स्थानों पर गणेश जी की प्रतिमा मिलने का क्रम जिस प्रकार था,उसी क्रम के अनुसार हर गणेश मंदिर की यात्रा करनी पड़ती है और एक बार यात्रा पूरी करने के बाद पुन: पहले विनायक की यात्रा करने पर ही अष्टविनायक की यात्रा का फल मिलता है.

इन सब गणेश मंदिरों की खास बात ये है कि गणेश जी की मूर्ति एक उनकी सूंड का अकार हर मंदिर में अलग अलग है.

READ  5 मंजिला फैक्ट्री में हुए धमाके, मलबे में ऐसे दब गईं लाशें और जिंदा लोग

Leave a Reply

Your email address will not be published.